Advertisement

भृगु ऋषि के प्रार्थना करने पर श्रीराम ने स्वीकारी थी सीता जी की वनवास की इच्छा!

"सिताजी के त्याग के सवाल पर श्री राम जी पर आज की मूर्क स्त्रियां या यूँ कहें की बकवादी लोग (जो हिन्दू धर्म से घृणा करते है ) ऊँगली उठाते है. जबकि शाश्त्र कहता ह"

Advertisement

सिताजी के त्याग के सवाल पर श्री राम जी पर आज की मूर्क स्त्रियां या यूँ कहें की बकवादी लोग (जो हिन्दू धर्म से घृणा करते है ) ऊँगली उठाते है. जबकि शाश्त्र कहता है की ऐसे लोगो को जिनकी श्रीराम में आस्था नही है, उन्हें ऐसे सवाल उठाने का ही अधिकार नही है और न ही रामकथा जानने का!

श्रीमद्भागवतगीता में भी श्रीकृष्ण ने सिधर अर्थो में कहा है की जिन लोगो की मुझ मे प्रीती नही है उन्हें न तो गीताजी सुननी चाहिए और न ही उनसे इसकी चर्चा ही की जानी चाहिए. मुझ स्वयं की इसपे दोषदृष्टि नही थी तथापि सिताजी के वनवास भेजे जाने को और इसे राज-धर्म के चलते किया गया था करके ही इस में कुछ दोष नही देखता था. लेकिन......


..लेकिन सिताजी के वनगमन के चलते मैं ये सोचता जरूर था की हो न हो ये किसी पूर्वजन्म के कर्म के चलते ही ऐसा हुआ होगा लेकिन क्या था वो इतिहास? इस सवाल का उतर है श्रीमदवाल्मीकि रामायण के उत्तरकांड में, जिसमे रुद्रावतार दुर्वासा ने दशरथ जी को बता दिया था ये वृतांत.

जिस दिन राम जी को पता चला की सीता गर्भवती है तो उन्होंने इस खुश खबरी के बदले सिताजी से कुछ मांगने बोला, तब उन्होंने कहा की वो गंगा तट के वन में एक दिन रहना चाहती है इसपे राम जी हाँ कह दिया और अपने दोस्तों से मिलनी चले गए.


श्रीराम जी के सखा भद्र ने तब (उन्ही के पूछने पर ही) अयोध्या में फैली बदनामी के बारे में बताया जिसमे लोग श्रीराम द्वारा सिता को अपनाने पर अपवाद कर रहे थे. राम जी ने तुरंत तीनो भाइयो को बुलाया और तब लक्षमण को (चुपचाप) सिता को वन में छोड़ आने का आदेश दे दिया (वाल्मीकि आश्रम में).

सिताजी तो राम जी से मिली बधाई (वरदान) के कारण पहले ही तैयार थी तब लक्षमण सारथि के साथ उन्हें लेकर चल दिया तो सिताजी को भयंकर अप-शकुन होने लगे. गंगा पर करने पर लक्षमण से सिता ने पूछा तो वो रोने लगे और सिता के वनवास की बात बता दी. तब सिता ने ये कष्ट सहर्ष स्वीकार कर लिया क्योंकि ये ही धर्म की मर्यादा है, पत्नी को जान देकर भी पति के मान की रक्षण करनी चाहिए.



लक्षमण के आंसू नही रुक रहे थे उनसे कुछ बोला (गला रुद्ध गया) नही जा रहा था तब उनके पिता के सारथि सुरथ ने उन्हें दुर्वासा ऋषि द्वारा कही गई बात सुनाई जो उन्होंने पहले ही कह सुनाई थी. जिसमे राम के वनवास में कष्ट सहने और सिता के अकेले वनवास का भी कारन बताया था.
देवा-सुर संग्राम में भृगु की पत्नी ने राक्षसों को अपने आश्रम में छुपा लिया और उन्हें मारने आये देवताओ को मूर्छित या विकलांग करना शुरू कर दिया था. तब अदिति पुत्र वामन (विष्णु) ने उन्हें सुदर्शन चक्र से मार गिराया था, इसपर भृगु ने उन्हें पत्नी वियोग का श्राप दिया था.

गुस्सा ठंडा होने पर ऋषि को अपनी भूल समझी तो उन्होंने तपस्या कर उन्ही भगवान् से उनके श्राप को स्वीकार कर उनके अस्तित्व को बचाने को कहा. तब रामावतार में इस श्राप को भुगतने का वर दिया जिसके कारण ही गर्भवती सिता को राम ने त्यागा, बड़ा कठिन था ये राजधर्म.


Advertisement
Related Content

What makes a tree brought conflict between Indra and Krishna क्या एक वृक्ष बना इन्द्र और श्री कृष्ण के बीच युद्ध का कारण

पारिजात वृक्ष पुरे भारत में पाये जाते है इनमे कई गुण होते है इसको चुने मात्र से ही सारी थकन दूर हो जाती है ये वृक्ष १० फिट से २५ फिट तक उचे होते है

shravan mas of lord shiva to get goodluck with limited works शिव का श्रावण मास लाइफ को बनाये सुपरलाइफ, कुछ आसान उपाय

श्रावण मास के शुरू होते ही भक्त कावड़िये जल लेके अपने भोलेनाथ को मानाने के लिए निकल पड़ते है पूरी श्रद्धा से, जगह जगह डीजे की आवाजे आपके कानो में पड़ती होगी तो.

the secret behind singing the karpurgauram shloka after god's devotion कर्पूरगौरम.... शिव पार्वती के विवाह उपरांत विष्णु ने गायी थी ये स्तुति!

नवरात्रों का उत्सव देश भर में उत्साह से मनाया जा रहा है, सुबह शाम माता की आरती होती है पर आरती के अंत में एक स्तुति होती है जो की आरती के पश्चात ही होती है.

today is hanuman jayanti, temples will remain close for 9 hours due to grahan हनुमान जयंती पर लगा चन्द्र ग्रहण भक्त निराश

आज हनुमान जयंती है.सूतक लगने के कारण मंदिरों के कपाट करीब नौ घंटे पहले बंद कर दिए जाएंगे. हनुमान जयंती पर शोभायात्रा सुबह 9 बजे से पहले ही करा ली जाएंगी।

PC in new Hollywood project न्यूयोर्क से प्रियंका चोपड़ा की ऐसी तस्वीर सामने आई है जो आपको हैरान कर देगी

बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा आजकल विदेशों में दिखाई देती हैं। हाल ही में प्रियंका ने ड्वेन जॉनसन के साथ बेवॉच मैं काम किया

yamunotri will free your afraid of death मौत का डर सत्ता रहा है तो जानिए उपाय

यमुना व यम सूर्य भगवान की सन्तान हैं। इसलिए ऐसी भी मान्यता है कि जो इसमें डुबकी लगाता है उसे मृत्यु का भय नहीं रहता। यह देवी विश्व के कल्याण के लिए अवतरित हुई ।

This unique pastimes of Krishna क्या आप श्रीकृष्ण की इन अनूठी लीलाओं को जानते है?

भगवान् कृष्ण का जीवन की लीला और माधुर्य से ओतप्रोत है! जबकि उनकी ये लीलाएं कुछ अनोखी और मिठास पूर्ण है! उन्होंने वैवस्वत मन्वन्तर के अट्ठाईसवें द्वापर में...

king indradyumya made temple of jagannathpuri, full story आदिवासी सरदार करता था नील माधव रूप में जगन्नाथ जी की पूजा, किसने बनाया मंदिर?

स्कन्द , ब्रह्मा पुराण के अनुसार जगन्नाथ जी के निर्माण की कहानी बेहद ही आकर्षक है, पुराणो के अनुसार पहले जगन्नाथ जी की पूजा नील माधव के रूप में की जाति थी

Full story of devil teacher Shukracharya शुक्राचार्य का असली नाम था उशना, जाने कैसे बन गए शिव पुत्र, क्यों किया देवो से विद्रोह?

देव गुरु बृहस्पति का नाम तो जन्म से ही है और वो एक नक्षत्र है लेकिन अगर आपको लगता है की शुक्राचार्य का नाम ओरिजनल है तो ये आपकी भूल है, क्योंकि ये उनका सली नाम

Goddess rati, lady of love cared her husband ki childhood than married to him इस हिन्दू देवी ने अपने ही पति को माँ की तरह पाला, जवान होने पर की शादी!

हिन्दुधर्म की रति देवी ने अपने ही पति को पुत्र रूप में पालन किया और जब वो जवान हो गया तो फिर उससे शादी भी की, लेकिन इसके पीछे एक दर्दनाक त्याग की कहानी है आप इस

What was gandhi ji's view on milk drinking! क्या गाँधी जी दूध पिने को भी मांसाहार के समान मानते थे?

आप ने और मैंने बचपन से सुन रखा है की गाँधी जी तो ऐसे शाकाहारी थे की वो दूध को भी मांसाहार मानते थे, लेकिन क्या ये बात सच है जाने इसकी पूरी सच्चाई gandhi's Fact

why arjun's chariot saved inspite of divine weapon used युद्ध समाप्ति के बाद जैसे ही कृष्ण और अर्जुन रथ से उतरे वो भस्म हो गया!

घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक ने अपना शीश कृष्ण को दान दे दिया और अंतिम इच्छा में युद्ध देखने के लिए उसे भगवान ने दिव्य दृष्टि दी जिससे उसने भी ये नजारा देखा.

two parts boy आखिर कौन था दो हिस्सों में बटा हुआ बालक

भगवन श्रीकृष्ण ने बाल्यकाल से युवावस्था तक कई लीलाई की उन्होंने कई बार जरासंध जैसे वीर को कई बार अपने विवेक और बल से हराया यह एक द्वापर युग की बात है

amazing facts about mandodari, the wife of rawana रावण की मौत के बाद क्या मंदोदरी ने कर ली थी विभीषण से शादी?

त्रेता युग में रामायण कथा के अनुसार रामावतार ने राक्षसराज रावण का वध कर अपनी पत्नी सीता को मुक्त कराया था, राजा राम वापस आये और 11000 वर्षो तक अयोध्या पर राज...

the real story behind shakuni in mahabharata द्वापरयुग का अवतार था शकुनि, चाणक्य ने मरवाया था उसके वंशजो को!

ज्यादातर लोग शकुनि को महाभारत में के खलनायक सहयोगी ही मानते है लेकिन क्या आपको पता है की शकुनि के रूप में द्वापर युग ने जन्म लिया था.

 Miracle on the forehead of the child in the child's unique strengths every day becomes a trident shape of Om and Trinetra चमत्कार बच्चे में है अनोखी शक्ति हर दिन बच्चे के माथे पर त्रिशूल ओम और त्रिनेत्र की आकृति बन जाती है ! लेकिन इस रहस्य से डॉक्टर भी अनजान है जाने

आज में आपको एक ऐसे चमत्कार के बारे में बैठा रहा हु जो आज तक पृथ्वी पर पहले कभी नही हुआ यहां एक बच्चे को लोग भगवान् मान रहे है इस बच्चे के त्रिनेत्र है ........

Why Ganesha is worshiped as a woman? क्यों पूजा जाता है गणेशजी को स्त्री रूप में?

आपने अभी तक सुना होगा की शिवजी की माँ दुर्गा के रूप में पूजा की जाती है लेकिन एक ऐसा स्थान है जहा पर श्रीगणेश को स्त्री के रूप में पूजा है!

the saga of great sage shuka, son of vyasa यज्ञाग्नि से जन्मे थे व्यास के पुत्र शुकदेव, इस मामले में बाप को भी किया शर्मिंदा!

परीक्षित ने जब ऋषि शमिका का अपमान किया तो उसे सांप द्वारा काटे जाने पर मृत्यु होने का श्राप मिला था, हालाँकि जो जन्मा है उसकी मृत्यु निश्चित है लेकिन फिर भी पर

Interesting Facts about breathing! Stamina : मनुष्य के फेफड़े एक बार में 4 लीटर हवा खिंच सकते है लेकिन हम लेते है सिर्फ आधा लीटर!

मनुष्य जन्म लेने के बाद पहला काम सांस लेने का ही करता है, जेर उसकी साँस नली में घुसा रहता है इसलिए डॉक्टर नवजात को उल्टा करते है! तकलीफ की वजह से वो रोता है...

sun increases speed gods day begin सूर्य की गति बढ़ने के साथ देवताओं के दिन शुरू

सूर्य का मकर राशि में प्रवेश करना मकर संक्रांति कहलाता है। इसी दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाते हैं। शास्त्रों में यह समय देवताओं का दिन और दक्षिणायन को देवताओं की रात्रि कहा गया है।

story of sage krithu who were friend of lord madeva शिव के मित्र थे ऋषि क्रथु, की उदंडता तो शिवगणों ने निकाल लिए अंडकोष!

भारतीय शास्त्रो में एक प्रजापति (ऋषि) थे नाम था क्रथु वो शिव के मित्र थे घनिष्ठता इतनी की शिव ने अपने पशुपति की जिम्मेदारी भी उन्हें दे दी थी लेकिन शिव के ससुर

Who breaks the Ram sethu according to epics? भगवान् राम ने ही तोडा था रामसेतु को, जाने क्या था कारण?

2002 में नासा ने रामसेतु की पुष्टि क्या की पुरे भारत में हलचल मच गई, जो सदियों से पढ़ते आ रहे थे उसका सबूत भी मिल गया था! भगवान् राम ने ही तोडा था इसे जाने क्यों

Gandhari's bless to duryodhana cause of his defeat! गांधारी का दुर्योधन को दिया गया आशीर्वाद ही बन गया कौरवो की हार का कारण!

धोखे से ब्याही जाने के बाद भी गांधारी ने अपने हालत को प्रारब्ध समझा, वो कभी भी अपने मन में पति के प्रति कोई दुर्भावना नहीं लाती थी! हमेशा सच बोलती थी उसे ने ...

ingore doing meting during period मासिकी के दौरान भी करते है यौनकर्म तो जाने गरुड़ पुराण की ये बात

राजा की जुबान पर ताले लगे रहे ऐसे करते हुए कई दिन बीते और फिर एक दिन वहां यमदूत आए और विपश्चित् से बोले कि अब आपके स्वर्ग गमन का समय आ गया है।