दर्द सभी को होता मर्द वो ही जो उससे पार पा जाये, जाने कब कब रोये थे श्री राम!

""मर्द को दर्द नहीं होता..." मर्द फिल्म का संवाद है लेकिन क्या वाकई मर्द को दर्द नहीं होता मर्द नहीं रोते, असल में दर्द सभी को होता है लेकिन दर्द से पार जाये वो"

image sources : youtube

अमिताभ की "मर्द" फिल्म में उनका एक संवाद था, "मर्द को दर्द नहीं होता" लेकिन असलियत तो ये है की जिसे दर्द नहीं होता वो मर्द भी नहीं होता. हाँ दर्द से जो पार पा जाए वो ही मर्द है, कहा जाता है की औरते रोटी है मर्द नहीं लेकिन असल में किसी के दुःख में आंसू बहाने वाला ही सही मायने में मर्द है.

दर्द से घबराये नहीं अपने कर्तव्य से न डिगे ये ही तो असली पुरुषार्थ है, क्योंकि दर्द में कराह न भरने और न रोने से ही सिर्फ ये साबित नहीं होता की आप असली वीर है. दर्द में भी जो ना टूटे वो ही मर्द है, गोपियों से बिछड़न हो या नन्द बाबा और यशोदा से या फिर पहली बार वासुदेव और देवकी जी से मिलन हर बार कृष्ण भी रोये थे.

असल में आंसू भावनाये है जो की व्यक्त करती है की आप किसी के दर्द को देख कर कितने दुखी होते है या कितने आहत होते है. लेकिन सिर्फ आंसू बहाने से ही काम नहीं होता किसी के आंसू पूंछने पर ही आप असली वीर कहलाते है, जाने भगवान् राम भी किन किन मौको पर रोये थे रामायण के दौरान?


image sources : blessingonthenet

बचपन तो नादानी की उम्र है इसलिए उस समय पर नहीं जाते है लेकिन जब राम जी को राज्याभिषेक के स्थान पर वनवास हुआ था तो वो बिलकुल भी नहीं रोये थे. पहली बार वो तब रोये थे जब उनकी चित्रकूट में भरत जी से भेंट हुई और उन्होंने दशरथ जी के मौत की खबर सुनाई तो राम जी रो दिए थे.

चित्रकूट से जब चल दिए और ऋषियों के आश्रम में घूम घूम कर उनको धन्य करते रहे लेकिन जब इसी दौरान उन्होंने मार्ग में मनुष्य के कंकालों का ढेर देखा तो ठिठक गए. पूछा ये क्या है तो ऋषियो ने बताया के ये ब्राह्मणो के नर कंकाल है जिन्हे राक्षसों ने खाकर यंहा फेंक दिया है.

ये सुनते ही राम जी रोने लगे और हाथो में जल लेकर प्रतिज्ञा की के ऐसे राक्षसों से धरती को शून्य कर दूंगा....


image sources : Gauravdave

उस घटना के बाद ही वो पंचवटी में निवास करने पहुंचे थे और वंहा जब स्वर्ण हिरण के पीछे दौड़े तो रावण ने धोखे से सीता जी का हरण कर लिया था. जब राम जी लौटे तो सीता को न पाकर दुखी होये और उन्हें ढूंढते हुए रोने लगे जंगल के जानवरो पेड़ो से उनका पता पूछने लगे.

ऐसा कोई दिन नहीं हुआ जब वो सीता को याद कर के रोये नहीं, उसके बाद जब रावण से युद्ध के दौरान लक्ष्मण मूर्छित हुए तब भी राम जी रोये थे. उसके बाद जब सीता जी ने राम जी से वनवास का धोखे से वरदान मांग लिया तो उनकी विदाई पर और वापसी पर कुश लव से मिलके रोये थे श्री राम

अंतिम बार जब उन्होंने लक्ष्मण का त्याग कर दिया था (यमराज से भेंट के दौरान दुर्वासा के आने पर उनके श्राप के डर से) तब भी वो रोये थे....उसके बाद उन्होंने वैकुण्ठ के लिए जलसमाधि ले ली थी...जय श्री राम 

Share This Article:

facebook twitter google