Advertisement

वर्णव्यवस्था (त्रेता द्वापर युग) और जाती व्यवस्था (कलियुग) में है बड़ा अंतर, जाने...

"धर्म को जानने वाले बिना मांगे ज्ञान देते नहीं है और जो नहीं जानते है उनसे जवाब मांगते है वो लोग जो कभी दबे कुचले गए थे, वर्ण और जाती व्यवस्था को एक ही मानते है"
Advertisement

image sources : amazon

आज के समय में जो दलित चिंतक है वो सभी भारत में जातिगत राजनीती पर सवाल उठाते है और उसे धर्म से जोड़ते है लेकिन असल में जाती का धर्म से कोई लेना देना नहीं है. सतयुग में तो सिर्फ एक ही वर्ण होता है लोग सिर्फ आश्रम में ही निवास करते है और सिर्फ मोक्ष की चेष्टा ही धर्म होता है.

त्रेता युग से वर्ण व्यवस्था शुरू होती है जो की द्वापर तक चलती है, वर्ण व्यवस्था क्या है वो हम पहले ही विस्तार से बता चुके है. असल में सतयुग के लोगो ने त्रेता की शुरुवात में काम आपस में बाँट लिए सिर्फ मोक्ष की चेष्टा न करके तब लोग क्षत्रिय, व्यापारी और मजदुर/नौकर भी बन गए थे.

सतयुग में सभी गौरे रंग के इंसान होते थे और अपने काम को छोड़ दूसरा काम पकड़ने के चलते उनके रंग बदल गए इसलिए उनके कामो को वर्ण (रंग) के अनुसार पहचान दी जाने लगी. आज कलियुग में जो जाती व्यवस्था है वो उस वर्ण व्यवस्था का कलियुग के प्रभाव से ही बिगड़ा हुआ रूप है.

जाने इसके बारे में थोड़ा और विस्तार से....


image sources : lallantop

जाती व्यवस्था कुछ और नहीं बल्कि वर्ण का ही बिगड़ा हुआ रूप है, असल ये वंश संतति है. ब्राह्मणो की जाती गौत्र से पहचानी जाती है जो की विवाह में काम आती है, यानी एक ही वर्ण के लोग अपने गौत्र में विवाह नहीं करते है और ये गौत्र ही उसकी जाती बन जाती है मतलब ये वर्ण में वर्ण है न की अलग जाती.

ऐसे ही क्षत्रियो में 36 कौम है जो की उनकी अलग अलग जाती है आज के दौर में, ऐसे ही वैश्यों (व्यापारी, किसान और गौपालक) में भी ऐसी ही जाती है. क्षुद्रो में भी ऐसी ही गौत्र परम्परा है जिसके अंदर वो आपस में विवाह नहीं करते है.

सतयुग के अंत में जिन लोगो ने दासता स्वीकार करने की बात स्वेच्छिक रूप से मानी उन्हें ही क्षुद्र कहा गया जो की सबसे निम्न दर्जे का काम था. इस व्यवस्था में क्षुद्र का तन मन धन स्वामी का हो जाता था और उस क्षुद्र की सम्पूर्ण जिम्मेदार स्वामी की होती थी इसलिए उन्हें निन्दित कहा जाता था.

त्रेता द्वापर में तो उन्हें तिरस्कृत नहीं किया गया लेकिन कलियुग में उनके साथ अत्याचार हुआ जिसके चलते ही 80% निराकरण के बावजूद अब भी क्षुद्र समुदाय में रोष है. जबकि नौकरी पेशा को ही क्षुद्र कहा जाता है और आज तो 50% लोग नौकरी पेशा ही है.....
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Geeta teaching misunderstood by secular कौनसा अर्थ सही "कर्म किये जा फल की इच्छा मत कर" या "तेरा कर्म पर ही अधिकार है फल पर नहीं"?

मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना लेकिन आतंकी अल्लाह हु अकबर बोल के मासूमो को मारते है, इसका मतलब ये ही है की शब्दार्थ गलत समझाया जाता है. गीता के साथ भी ऐसा

Bollywood shanti & bhanu priya career report छोटी बहिन के फिल्मो में आते ही बड़ी बहिन का हो गया करियर ख़त्म, जाने बॉलीवुड एक्ट्रेस को

बॉलीवुड में दो बहने सफल हो इसके लिए बड़े टैलेंट की जरुरत होती है वो भी एक ही समय में लता आशा इनमे से एक है लेकिन शांति प्रिय और भानु प्रिय के मामले में कुछ अजीब

Salman jackie just fight for sangeeta संगीता जैकी के रोमांस के चलते सलमान जग्गू दादा भीड़ गए सेट पर....

धर्मेंद्र की प्रेमिका हेमा के साथ काम करने वाले हर अभिनेता के दिल में पिटाई का खौफ रहता था लेकिन सलमान की प्रेमिका के साथ रोमांस करने वाले के मन में करियर का...

Shaligram serving practices as per hinduism घर में है शालिग्राम तो रखे इन बातों का ख़ास ख्याल....

भगवान को शालिग्राम कहा जाता है जिनके साथ तुलसी का विवाह करवाया जाता है उनके शिला बनने की कथा तो आपने पढ़ी सुनी होगी लेकिन शालिग्राम की सेवा की विधि क्या है?जाने

Bollywood star's child who set to debut in movies टीवी की चुलबुली स्टार खलनायक डेन्नी के बेटे के साथ कर रही है बॉलीवुड में डेब्यू

बॉलीवुड कला के आलावा एक पेशा और धंधा भी है इसलिए यंहा वंशवाद पर निशाना भले ही साधा जाए लेकिन है ये जायज ही, जाने ऐसे कुछ स्टार पुत्रो को जो कर रहे है जल्द डेब्य

Bollywood star couples top secrets नवाब के लिए निजी तौर पर डांस करती है करीना, जाने स्टार कपल सीक्रेट्स...

बॉलीवुड में फिल्मो में आकर प्रसिद्दि पाने वाले स्टार्स फिर अपनी इस पहचान को खोते नहीं और वंशवाद से इसे सेट करते है, पब्लिक भी दीवानी है इनकी और इनके सीक्रेट्स