90% महिलाये ही क्यों होती है प्रेत बाधा की शिकार, जाने चौंकाने वाले आध्यात्मिक सत्य...

"भले ही वैज्ञानिक भूत प्रेतों के अस्तित्व को सबके सामने न माने क्योंकि उसके लिए सबूत चाहिए होते है लेकिन भगवान् के अस्तित्व का क्या सबूत है, वैसे मर्द कम मानते.."

image sources : youtube

दुनिया भर के डॉक्टर्स और वैज्ञानिक भूतो के अस्तित्व को नकारते है लेकिन जब उन्हें रात में कब्रिस्तान जाने को कहा जाता है तो उनके हाथ पाँव फूलने लगते है. असल में उन लोगो को हर बात का तार्किक सबूत चाहिए होता है लेकिन तार्किक सबूत को भगवान् का भी नहीं दे सकता कोई.

जैसे सकारात्मक ऊर्जा के होने का कोई सबूत नहीं है वैसे ही भूतो के भी होने का कोई सबूत नहीं है लेकिन जिसका भूतो से पाला पड़ा वो उसे मानने को मजबूर हो जाता है. भूतो को न मानने के पीछे एक कारण ये भी है की लगभग 90% प्रेत बढ़ाओ का शिकार महिलाये ही होती है.

पुरुष बहुत कम इस बढ़ा से पीड़ित होते है, महिलाये चुकी वैसे भी समाज में दबी कुचली होती है इसलिए डॉक्टर्स इसे उनकी मनोवैज्ञानिक बीमारी बता देते है. इसमें भी कोई संदेह नहीं की मानसिक रोग के मामले भी ऐसे ही होते है लेकिन इन मामलो के मानसिक होने की संख्या नगण्य है.

जंहा तक बात रही महिलाए ही क्यों अधिक पीड़ित होती है तो जाने उसके प्रमुख कारण जो की शाश्त्रो में बताई गई है...


image sources : janchouk

इसके पीछे सबसे कठोर कारण है गुण का मिलना, इसका ये मतलब नहीं की महिलाये भूत प्रवर्ति की होती है बल्कि उनको जो मासिक धर्म होता है वो तमोगुण का घोतक है और भूत भी तमोगुणी ही होते है. इसके लिए महिलाओ को परहेज के लिए कई उपाय बताये गए है वो करते रहने पर उन्हें भूत पीड़ित नहीं बना सकते है.

सूर्योदय से पहले उठना, तीनो संध्यो में चौराहे पर न जाना, खाने से पहले पांव धोना और सोने से पहले भी पांव धोना साथ ही गीले पैर और दोपहर में भी नहीं सोना चाहिए (महिलाओ को). रात में खुले बाल करके न सोये और खुले बाल रात में बाहर भी न जाये और तो और खुले बाल चौराहे के बिच से भी न निकले (उसे सीधे हाथ की तरफ करके ही निकले).

इसके अलावा अपनी नाभि को ढककर ही रखे और हमेशा टुपट्टा भी इस्तेमाल करे, दूसरे शब्दों में जिन अंगो को देख पुरुष भड़कते है उनसे कंही ज्यादा भूत प्रेत आकर्षित होते है. इसलिए भूत बाधा से बचने की आकांशा रखने वाली महिलाओ को ये परहेज रखने चाहिए.

Share This Article:

facebook twitter google