Advertisement

Depression Killer: अशोक वृक्ष होता है बेहद चमत्कारिक, जाने सनातन देवीय वृक्षों के महत्त्व को

"रामायण के दौरान लंका में सीता जी जिस पेड़ के निचे शरण लेती है जिसके नाम पर उस उधान का नाम था वो अशोक वृक्ष था लेकिन क्या आप उसके चमत्कारिक फायदे जानते है? जाने"
Advertisement

image sources : pinterest

सेकुलरिज्म की हद देखिये की पीपल, वट और अशोक जैसे भारतीय संस्कृति के महत्त्व के पेड़ भी किसी सरकारी योजनाए के तहत उगाये जाए तो भी इसको भगवाकरण का नाम देकर उसका विरोध होता है. मतलब हिन्दुओ की आस्था का सम्मान होना ही देश के लिए खतरा है और उनकी भावनाओ का अपमान ही धार्मिक सद्भाव! ग़जब है....

लेकिन हिंदुस्तानी भी इसका विरोध नहीं करते है क्योंकि उन्हें अब इन पेड़ो का महत्त्व भी मालूम नहीं है के क्यों भारतीय संस्कृति में इन्हे पूजा जाता है. असल में एक साजिश के तहज पहले मुघलो ने फिर अंग्रेजो ने तो फिर देश के राजनैतिक दलों ने हमें धर्म से दूर रखा है इसे जहर बताकर जिसके चलते हम आज धर्म से दूर हो चले है.

अशोक वृक्ष को हम जानते है तो सिर्फ और सिर्फ रामायण के चलते जिसमे सुंदरपर्वत पर घटित सुन्दरकाण्ड के दौरान अशोक वाटिका में सीता जी अशोक वृक्ष के निचे बैठी थी. हनुमान जी भी इसी वृक्ष की डालियो में छुप पर निश्चित समय की प्रतीक्षा कर रहे है अन्यथा हम अशोक वृक्ष को पहचानते तक नहीं.

जाने अशोक वृक्ष समेत सभी भारतीय देवीय वृक्षों की महिमा, डिप्प्रेशन की काट है अशोक वृक्ष जाने....


image sources : hanuman

अशोक वृक्ष के महत्त्व को आप उसके नाम सही समझ सकते है जिसका अर्थ है अ शोक मतलब शोक को हरने वाला, भगवान् शिव का भी एक नाम अशोक है. डिप्रेशन से ग्रसित लोगो के लिए ये वृक्ष किसी वरदान से कम नहीं है, जिस किसी को भी अवसाद ने घेर लिया हो उसे अशोक वृक्ष के निचे जाकर एक प्रार्थना करनी चाहिए.

"हे अशोक वृक्ष जैसे आपने माँ सीता का शोक हरा था वैसे ही मेरा भी शोक हर, अपने नाम के अनुरूप मुझपे कृपा कर." एक बार अवश्य कोशिश करके देखे, क्योंकि ऐसी ही प्रार्थना सीता जी ने भी रामायण में सुन्दरकाण्ड के दौरान की थी जिसके बाद हनुमान जी ने तुरंत ही राम मुद्रिका उनके आगे गिरा दी और उनका शोक हर लिया था.

"सुनहि विनय मम विटप अशोका, सत्य नाम करू हरु मम शोका! जनु अशोक अंगार दिन हरषि उठी कर गयहु"

जाने ऐसे ही और भी दिव्य वृक्षों के चमत्कारी प्रभाव....


image sources : Oneindiahindi

पिप्पल, बनयान और वट ये तीन पेड़ भी काफी धार्मिक महत्त्व के है, घर या मंदिर में पूजा के बाद फूल पुष्प आदि इनके निचे चढ़ाई जाती है साथ ही खंडित या एक बार पूजा की गई तस्वीर भी. असल में ये सभी निर्माल्य सुबह के शाम को घर में नहीं रखे जाते है और ये नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करते है. 

ये सभी दिव्य वृक्ष नकारात्मक ऊर्जा को सोखने वाले होते है इसलिए ऐसा किया जाता है, इन वृक्षों के निचे विशेष तिथियों में दीपदान देने से पितृ तृप्त हो जाते है. इसके आलावा ये सभी वृक्ष प्राण वायु यानि ऑक्सीजन उत्सर्जन करने में बाकि सभी वृक्षों के मुकाबले कई गुना तेज होते है.

तुलसी का झाड़ या वृक्ष भी ऐसा है की घर में कोई नकारात्मक ऊर्जा घुसते ही वो झुलस जाता है यंहा तक की रजस्वला औरत के पास आते ही वो उसकी गर्मी से जल जाता है. इसलिए इन वृक्षों के पास अशुद्धता करने से पहले ये विचार कर लेना चाहिए की कंही लेने के देने न पड़ जाये.

धर्मो रक्षति रक्षिताय....
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Bollywood movie male rape बॉलीवुड फिल्मो में पुरुष बलात्कार को भी सामान्य बात दिखाया जाना कितना सही?

बॉलीवुड फिल्मो में गे (वेस्टर्न) संस्कृति को भी कॉमेडी के रूप में दिखा दिया और उसे सामान्य बताया ऐसे ही बलात्कार (पुरुष) को भी अब स्वीकार्य करवा रहा है ये तपका

7 cities of moksha in india जाने, 7 पुरियो की भूमि में ऐसा क्या है जो यंहा मरने वाले को मिलता है मोक्ष?

क!शी, अयोध्या, मधुरा, हरिद्वार, कांचीपुरम, अवंतिका (उज्जैन) और द्वारका ये सप्तपुरिया यानि सात नगर कहे गए है! प्राचीन भारत में ये मान्यता रही थी की इन सात नगरों

Bollywood actress compromise & success उत्पीड़न के आरोप लगाकर पलटने वाली अभिनेत्रियों ने सफलता में छुए नए आयाम, लेकिन

मी टू में भाग लेने वाली ज्यादातर अभिनेत्रियां वो ही थी जो की अब आउट ऑफ़ दी वर्क हो चुकी है बाकि ने बताई भी तो बॉलीवुड के अलावा सच्चाई ये है सफलता का मन्त्र???

Know secret of sridevi's life in boni kapoor बोनी ने करानी चाही थी अर्जुन से श्रीदेवी की दोस्ती, हुआ ऐसा काण्ड के....

एक पत्नी को बिना कारण छोड़े बिना दूसरी पत्नी को घर ले आना और उसके बाद दूसरी पत्नी से पहली पत्नी को स्वीकार करने को कहना कितना मुश्किल काम होगा, जाने श्रीदेवी की

Girnar mountain in revatak piece of vaikuntha धरती पर वैकुण्ठ का 100 कोस का टुकड़ा है ये क्षेत्र, जाने श्री कृष्ण का अद्भुद संसार

शिव की काशी प्रलय में भी नष्ट नहीं होती है ऐसे ही वृन्दावन का 84 कोस क्षेत्र भी नष्ट नहीं होता है जो की गोलोक का टुकड़ा है ऐसे लेकिन एक स्थान वैकुण्ठ का भी टुकड़ा

Yalgaar d company treat changed juhi chawla जूही चावला की जगह अंतिम क्षणों में बदला गया नग़मा को, जाने महा सीक्रेट कारण

धर्मेंद्र समेत कैयो ने छोड़ी तो अमिताभ को मिली थी ज़ंजीर लेकिन जब अंतिम क्षणों में तय की गई स्टारकास्ट को बदल दिया जाए तो इसका सख्त कारण होना चाहिए जाने रहस्य????