Advertisement

बाकि धर्मो से अलग है सनातन में कच्ची उम्र के अंतिम संस्कार, जानना जरुरी है...

"सनातन में हर मनुष्य के जीवन में सोलह संस्कार बताये गए है (ब्राह्मणो के लिए 32) जिनके पुरे होने का एक निश्चित समय या पड़ाव होता है लेकिन अगर कोई बालक असमय चल बसे"
Advertisement

image sources : youtube

घर में किसी बच्चे की मौत हो जाए तो ये सबसे बड़ा मातम है क्योंकि बुजुर्ग की मौत तो स्वाभाविक ही है लेकिन एक बच्चा क्यों मर गया ये एक सोचनीय विषय है. वैसे तो हम सभी यंहा अपने कर्मो का फल भोगने आते है और जीवन मृत्यु पहले से तय होती है लेकिन अपनों का ये कर्तव्य है की वो अपने निज जनो का अंतिम संस्कार पूरी श्रद्धा से और धार्मिक रीती से करे.

बाकि धर्मो में (ईसाई और मुस्लिम) शव को दफनाने का ही विधान है चाहे वो बच्चा हो या बुजुर्ग, लेकिन अगर आपको ये लगता है की हिन्दुओ में भी बच्चो के दफनाने का ही विधान है तो आप गलत है. हिन्दू धर्म में सोलह संस्कार के बारे में आपने सुन रखा होगा, असल में इन संस्कारो पर निर्भर करता है अंतिम संस्कार.

गर्भादान से लेकर आठवे महीने तक कई संस्कार माँ के गर्भ में ही हो चुके होते है लेकिन इन्ही संस्कारो के बिच अगर गर्भ स्त्राव या गर्भपात हो जाए तो ऐसे गर्भस्थ शिशु के शव को दफना देना चाहिए उसके लिए फिर कुछ भी नहीं करना चाहिए. लेकिन जन्म से लेकर चूड़ाकरण संस्कार या दांत आने तक किसी बच्चे की मृत्यु हो जाए तो अंतिम संस्कार के आलावा कुछ और भी करे.

अगर नहीं करते है या किया आपने तो वो बच्चे 5 साल में बन जाते है पुरुष और....


image sources : appdevice

ये दुनिया चलती ही रहती है जीवन कभी ठहरता नहीं है, जीवित हो या मृत व्यक्ति उनकी पुनरावृति होती ही रहती है. ऐसे में अगर आप इस बारे में कुछ भी नहीं जानते है तो आपको गरुड़ पुराण पढ़ना चाहिए या पुराण विद से सलाह लेनी चाहिए, जन्म से लेकर 22 महीने तक के बच्चे को शिशु कहते है.

22 महीने के ऊपर और 5 साल तक के उम्र के बिच के बच्चो को बालक तो उसके ऊपर और उपनयन संस्कार होने तक के बच्चो और युवाओ को कुमार कहते है. जन्म से लेकर 22 महीने तक की बच्चे की अगर मृत्यु हो जाए तो उसके शव को दफ़नाने का ही विधान है और कुछ नहीं करना चाहिए.

लेकिन उस शिशु की मुक्ति के लिए उसके निमित बच्चो को दूध पिलाना चाहिए और दूध दान करना चाहिए....जाने उसके बाद के स्तरो को...


image sources : youtube

लेकिन 22 महीने से ऊपर और उपनयन संस्कार जिनके नहीं हुए है उस युवा की अगर मृत्यु हो जाती है तो उसे दफनाना नहीं चाहिए बल्कि उसका अंतिम संस्कार करना चाहिए. लेकिन उसके लिए ग्यारहवा बारहवा और महादान नहीं किया जाता है बल्कि उसके निमित पानी और खीर के घटदान करने चाहिए.

ऐसा करने से उसकी मुक्ति का मार्ग खुल जाता है लेकिन उसके बाद बरसी के दिन घड़ा अवश्य भरना चाहिए उसके लिए अन्यथा वो पिशाच बन जाता है. असल में जीवित हो या मृत व्यक्ति बालक हो या वृध्द उसकी उम्र तो बढ़ती ही है लेकिन अगर बालक भी मरे तो उसमे 5 वर्ष के बाद पुरुष्त्व प्रतिष्ठित हो जाता है.

उसके बाद उसे रूप भी मिल जाता है और उसमे समझ भी विकसित हो जाती है, ऐसा होने से और पिशाच बन जाने से वो घर में उत्पात मचता है जिसके फलस्वरूप आपके घर में अकाल मृत्यु, दुःख, क्लेश, पैसे की हानि और दरिद्रता टूट पड़ती है इसलिए बच्चो के अंतिम संस्कार में विशेष सावधानी बरते.
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Bollywood movie male rape बॉलीवुड फिल्मो में पुरुष बलात्कार को भी सामान्य बात दिखाया जाना कितना सही?

बॉलीवुड फिल्मो में गे (वेस्टर्न) संस्कृति को भी कॉमेडी के रूप में दिखा दिया और उसे सामान्य बताया ऐसे ही बलात्कार (पुरुष) को भी अब स्वीकार्य करवा रहा है ये तपका

7 cities of moksha in india जाने, 7 पुरियो की भूमि में ऐसा क्या है जो यंहा मरने वाले को मिलता है मोक्ष?

क!शी, अयोध्या, मधुरा, हरिद्वार, कांचीपुरम, अवंतिका (उज्जैन) और द्वारका ये सप्तपुरिया यानि सात नगर कहे गए है! प्राचीन भारत में ये मान्यता रही थी की इन सात नगरों

Bollywood actress compromise & success उत्पीड़न के आरोप लगाकर पलटने वाली अभिनेत्रियों ने सफलता में छुए नए आयाम, लेकिन

मी टू में भाग लेने वाली ज्यादातर अभिनेत्रियां वो ही थी जो की अब आउट ऑफ़ दी वर्क हो चुकी है बाकि ने बताई भी तो बॉलीवुड के अलावा सच्चाई ये है सफलता का मन्त्र???

Know secret of sridevi's life in boni kapoor बोनी ने करानी चाही थी अर्जुन से श्रीदेवी की दोस्ती, हुआ ऐसा काण्ड के....

एक पत्नी को बिना कारण छोड़े बिना दूसरी पत्नी को घर ले आना और उसके बाद दूसरी पत्नी से पहली पत्नी को स्वीकार करने को कहना कितना मुश्किल काम होगा, जाने श्रीदेवी की

Girnar mountain in revatak piece of vaikuntha धरती पर वैकुण्ठ का 100 कोस का टुकड़ा है ये क्षेत्र, जाने श्री कृष्ण का अद्भुद संसार

शिव की काशी प्रलय में भी नष्ट नहीं होती है ऐसे ही वृन्दावन का 84 कोस क्षेत्र भी नष्ट नहीं होता है जो की गोलोक का टुकड़ा है ऐसे लेकिन एक स्थान वैकुण्ठ का भी टुकड़ा

Yalgaar d company treat changed juhi chawla जूही चावला की जगह अंतिम क्षणों में बदला गया नग़मा को, जाने महा सीक्रेट कारण

धर्मेंद्र समेत कैयो ने छोड़ी तो अमिताभ को मिली थी ज़ंजीर लेकिन जब अंतिम क्षणों में तय की गई स्टारकास्ट को बदल दिया जाए तो इसका सख्त कारण होना चाहिए जाने रहस्य????