करण जौहर ने कॉमेडी के तड़के से समलैंगिकता को भारत में मान्यता दिलाई, जाने प्रयास...

"इसके पहले भी भारत में समलैंगिकता पर काफी फिल्मे बन चुकी थी लेकिन सभी प्रतिबंधित हो गई थी या असफल रही थी लेकिन करण जौहर जिनपे खुद गे होने के आरोप लगते थे ने इस.."

image sources : youtube

एक ही जेंडर के मर्द या औरत से रिश्ते रखना भारतीय समाज में आज भी एक गंभीर विषय है जिसमे कोई भी बात नहीं करना चाहता है, भले ही सुप्रीम कोर्ट ने इसे पहले नकारा था लेकिन अब इसकी स्वीकृति दे दी है. इसे देश की सभ्यता को नुकसान पहुँचाने वाला करार दिया जाता रहा है.

भारत में इस मसले पर बॉलीवुड ही कुछ कर सकता है क्योंकि किसिंग, रेप, गैंगरेप और चोरी लूट जैसे अपराध बॉलीवुड की ही देन है भारतीय समाज को. लेकिन जब इसपे पहल हुई तो बॉलीवुड स्टार्स को भी धमकिया मिली थी, आपको याद होगा शबाना आज़मी और नंदिता दास  की फिल्म आई थी "फायर" जो की प्रतिबंधित हो गई थी.

फिल्म में शबाना नंदिता देवरानी जेठानी थी जिन्होंने इस तरह का ही रोल फिल्म में किया था, इन दोनों अभिनेत्रियों को ही जान से मारने की धमकिया मिली थी. इसके बाद भी कई फिल्मे आई जो या तो प्रतिबंधित हो गई या फिर सुपर फ्लॉप रही क्योंकि इनको समाज स्वीकार नहीं करता है.

लेकिन जब इसमें कॉमेडी का तड़का दिया तो 80 % लोग इसे जानने लग गए...


image sources : youtube

ईशा कोप्पिकर की गर्लफ्रेंड भी विवादों में थी और ऐ सर्टिफिकेट के बाद फिल्म फ्लॉप रही थी जूही चावला की माय ब्रदर निखिल भी फ्लॉप रही थी. हालाँकि हनीमून ट्रेवल और फैशन में भी इस तरह की बाद को उठाया गया लेकिन उसे मूल रूप से दर्शन काफी खतरनाक हो सकता था फिल्म के लिए.

लेकिन करण जौहर ने जिनपे खुद भी उभयलिंगी होने के आरोप लगते रहे है ने दोस्ताना बनाई और इस मुद्दे को हास्य के रूप में दिखाया तो 80 % भारतीयों ने इसे गंभीरता से लिया और उन्हें समझ आया के दुनिया में ऐसे भी लोग होते है जिसे पूरी दुनिया में मान्यता प्राप्त है सिवाय भारत के.

उसके बाद तो मार्गरिटा विथ स्त्राव और कपूर & संस में फवाद खान का रोल कौन भुला है आदि आदि फिल्म चल पड़ी और फिल्मे हिट भी रही थी. तो ऐसे करण जौहर के प्रयासों का ही परिणाम था जिसके चलते सबसे पहले उन्होंने ही बधाई दी "Finally" कह के....

Share This Article:

facebook twitter google