Advertisement

जिस पेड़ के निचे मार्कण्डेय जी ने की थी तपस्या, राम सीता ने विश्राम वो है इस आर्डिनेंस डिपो में....

"उत्तरप्रदेश के नव नामित प्रयागराज शहर में त्रिवेणी संगम है और इसी स्थान पर मार्कण्डेय जी ने तपस्या कर पाई थी चिरंजीवी उम्र, लेकिन अब ये वट रह गया एक आयुध फैक्ट्"
Advertisement

image sources : Mygodpicture

चिरंजीवियों में से एक भृगु ऋषि के पौत्र और मरकंडू ऋषि के पुत्र मार्कण्डेय के बारे में तो सभी जानते है लेकिन ये नहीं जानते होंगे की उन्होंने शादी भी की थी. उनके एक पुत्र भी था जिसका नाम वेदशिरा था क्योंकि गृहस्थ धर्म और पुत्र पैदा किये बिना पूर्वज प्रसन्न नहीं होते है.

उनकी उम्र 12 वर्ष ही नियत थी लेकिन पुरुषार्थ दिखाया और भगवान् शिव को प्रसन्न कर उन्होंने चिरंजीवी उम्र पाई और आज भी वो अदृश्यरूप में तपस्या कर रहे है. क्या आप जानते है की उनका जन्म स्थान हाटकेश्वर यानि की पुष्कर में ही है और उन्होंने ही ब्रह्मा जी के मंदिर की स्थापना की थी?

लेकिन ये सब उन्होंने लौटकर किया था उसके बिच वो अपना घर छोड़ तपस्या कर अमरत्व प्राप्त करने के लिए प्रयाग में आ गए थे. वंहा उन्होंने एक वटवृक्ष के निचे बैठकर तपस्या की थी और वंही पर शिव जी को प्रसन्न कर पाई थी चिरायु, क्या आप जानते है वो वटवृक्ष अब अक्षयवट के नाम से प्रसिद्द है लेकिन वो कहा है?

उसकी रक्षा करते है स्वयं शिव....


image sources : youtube

प्रयागराज में संगम तट पर ही वो अक्षयवट आज भी स्तिथ है लेकिन वो आम लोगो के लिए दुर्लभ है क्योंकि वो आर्डिनेंस फैक्ट्री के अंदर है जो की अकबर के बनाये किले में है. कुम्भ मेले के समय सिर्फ एक दिन के लिए उसके दर्शन की अनुमति होती है इसलिए वो होकर भी नहीं है सुलभ.

असल में उसकी मान्यता इतनी थी की लोग उसपे से कूद कर आत्महत्या करते थे मोक्ष के लिए, बाद में अकबर ने उसे अपने किले में ले लिया. चीन और कई और घुमक्क्ड जब भारत आये थे (मुग़लकाल से पहले) तो उस वृक्ष के बारे में उन्होंने लिखा है अपने संस्मरणों में.

उस वृक्ष के निचे कंकालों के ढेर लगे रहते थे कभी अब वो बंद है,लेकिन इसमें गलती लोगो की भी है क्योंकि उन्होंने किसी पर विश्वास किया शाश्त्र नहीं पढ़े....


image sources : youtube
 
असल में जैसे काशी प्राण छोड़ने से मोक्ष मिलता है वैसे ही प्रयाग में भी मरने से ये ही फल मिलता है लोग इस बात को न समझ आत्महत्या करने लगे लेकिन आत्महत्या और मरने में फर्क है और उनकी दुर्गति ही हुई होगी. इस अक्षयवट को बाबर ने भी जलाने की कोशिश की थी लेकिन सफल नहीं हो पाया.

किले के खुले हुए भाग में एक पातालपुरी नाम का मंदिर बना है जिसके लिए दावा किया जाता है की इस मंदिर में उस पेड़ की टहनी रखी है या उसी अक्षयवट की जड़ो से ही इसका निर्माण हुआ है. हो सकता है किसी ने अपनी दुकानदारी के लिए इसका निर्माण कर दिया हो और प्रशासन ने श्रद्धालुओं के भीड़ से बचने के लिए इस अफवाह को बढ़ा दिया हो.

कभी जाए प्रयागराज तो जरूर जाए लेकिन यंहा, इस वृक्ष के उतर में ब्रह्मा जी अदृश्य रूप में रक्षा करते है, विष्णु जी वेणीमाधव (मंदिर) के रूप में और शिव तो इसी अक्षयवट के निकट विराजते है उसकी रक्षा के लिए.
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
King hemu was last king of pandava dynasty पांडवो का अंतिम वंशज था हेमू, मुगलो को उखाड़ फेंका था लेकिन....

पांडव स्वर्गारोहण को चले गए परीक्षित को राजा बनाया उसका पुत्र जन्मेजय हुआ लेकिन उसके बाद क्या हुआ किसी को नहीं पता लेकिन भविष्य पुराण में जो लिखा है उसके अनुसार

Story behind bengal famine 1943 बंगाल अकाल 1943 : जब अंग्रेजो ने अपनी रक्षा के लिए भूखे मार दिए थे 25 लाख भारतीय.....

दुनिया भर में अकालों के चलते कंही मौत की बात होती है तो लोग अफ्रीकन देशो की बात करते है लेकिन कृष्ण प्रधान देश भारत में दुनिया का सबसे बड़ा अकाल पड़ा था जो की असल

Feroz gandhi extra marital affairs इंदिरा गाँधी को छोड़ किसी और से शादी करना चाहते थे फ़िरोज़ खान, तब मिली धमकी....

भारतीय राजनीती में गाँधी परिवार का रसूख रहा है इसलिए उनके काले कारनामो पर बोलने की मीडिया की हिम्मत नहीं होती है, नेहरू का चरित्र रंगीन था तो जमाई फ़िरोज़ भी कम..

Seeing an parrot will make you goodness तोते को देखते ही मिलता है पुण्य, जाने शाश्त्रोक्त किन किन को देखते ही मिलता है पुण्य?

महाभारत में गीता प्रवचन के दौरान कृष्ण ने अर्जुन से कहा की संशय की स्तिथि में शाश्त्र ही प्रमाण है उसी शाश्त्र में लिखा है की तोते को देखते ही मिलता है पुण्य...

Shameful history about shah jahan maker of taaz mahal तो क्या प्यार की निशानी ताज महल बनाने के बाद शाह जहां ने मुमताज़ की बेटी के साथ भी किया था....?

शाहजहाँ अपनी कामुकता के लिए इतना कुख्यात था, की कई इतिहासकारों ने उसे मुमताज महल की बड़ी बेटी जहाँआरा बिल्कुल अपनी माँ की तरह लगती थी और मुग़ल अपनी बेटी का निकाह

Indian central political history of corruption आजाद भारत में पहले चुनावो से पहले ही हो गया था घोटाला, जाने केंद्र सरकार के घोटालो का इतिहास

आज भी भारतीय वोटर भ्रष्टाचार से क्रोधित होकर ही वोट देता है और इसके चलते ये मुद्दा आज भी जीवंत है लेकिन क्या आपको भारतीय राजनीती के केंद्रीय घोटालो का इतिहास...