Advertisement

जिस पेड़ के निचे मार्कण्डेय जी ने की थी तपस्या, राम सीता ने विश्राम वो है इस आर्डिनेंस डिपो में....

"उत्तरप्रदेश के नव नामित प्रयागराज शहर में त्रिवेणी संगम है और इसी स्थान पर मार्कण्डेय जी ने तपस्या कर पाई थी चिरंजीवी उम्र, लेकिन अब ये वट रह गया एक आयुध फैक्ट्"
Advertisement

image sources : Mygodpicture

चिरंजीवियों में से एक भृगु ऋषि के पौत्र और मरकंडू ऋषि के पुत्र मार्कण्डेय के बारे में तो सभी जानते है लेकिन ये नहीं जानते होंगे की उन्होंने शादी भी की थी. उनके एक पुत्र भी था जिसका नाम वेदशिरा था क्योंकि गृहस्थ धर्म और पुत्र पैदा किये बिना पूर्वज प्रसन्न नहीं होते है.

उनकी उम्र 12 वर्ष ही नियत थी लेकिन पुरुषार्थ दिखाया और भगवान् शिव को प्रसन्न कर उन्होंने चिरंजीवी उम्र पाई और आज भी वो अदृश्यरूप में तपस्या कर रहे है. क्या आप जानते है की उनका जन्म स्थान हाटकेश्वर यानि की पुष्कर में ही है और उन्होंने ही ब्रह्मा जी के मंदिर की स्थापना की थी?

लेकिन ये सब उन्होंने लौटकर किया था उसके बिच वो अपना घर छोड़ तपस्या कर अमरत्व प्राप्त करने के लिए प्रयाग में आ गए थे. वंहा उन्होंने एक वटवृक्ष के निचे बैठकर तपस्या की थी और वंही पर शिव जी को प्रसन्न कर पाई थी चिरायु, क्या आप जानते है वो वटवृक्ष अब अक्षयवट के नाम से प्रसिद्द है लेकिन वो कहा है?

उसकी रक्षा करते है स्वयं शिव....


image sources : youtube

प्रयागराज में संगम तट पर ही वो अक्षयवट आज भी स्तिथ है लेकिन वो आम लोगो के लिए दुर्लभ है क्योंकि वो आर्डिनेंस फैक्ट्री के अंदर है जो की अकबर के बनाये किले में है. कुम्भ मेले के समय सिर्फ एक दिन के लिए उसके दर्शन की अनुमति होती है इसलिए वो होकर भी नहीं है सुलभ.

असल में उसकी मान्यता इतनी थी की लोग उसपे से कूद कर आत्महत्या करते थे मोक्ष के लिए, बाद में अकबर ने उसे अपने किले में ले लिया. चीन और कई और घुमक्क्ड जब भारत आये थे (मुग़लकाल से पहले) तो उस वृक्ष के बारे में उन्होंने लिखा है अपने संस्मरणों में.

उस वृक्ष के निचे कंकालों के ढेर लगे रहते थे कभी अब वो बंद है,लेकिन इसमें गलती लोगो की भी है क्योंकि उन्होंने किसी पर विश्वास किया शाश्त्र नहीं पढ़े....


image sources : youtube
 
असल में जैसे काशी प्राण छोड़ने से मोक्ष मिलता है वैसे ही प्रयाग में भी मरने से ये ही फल मिलता है लोग इस बात को न समझ आत्महत्या करने लगे लेकिन आत्महत्या और मरने में फर्क है और उनकी दुर्गति ही हुई होगी. इस अक्षयवट को बाबर ने भी जलाने की कोशिश की थी लेकिन सफल नहीं हो पाया.

किले के खुले हुए भाग में एक पातालपुरी नाम का मंदिर बना है जिसके लिए दावा किया जाता है की इस मंदिर में उस पेड़ की टहनी रखी है या उसी अक्षयवट की जड़ो से ही इसका निर्माण हुआ है. हो सकता है किसी ने अपनी दुकानदारी के लिए इसका निर्माण कर दिया हो और प्रशासन ने श्रद्धालुओं के भीड़ से बचने के लिए इस अफवाह को बढ़ा दिया हो.

कभी जाए प्रयागराज तो जरूर जाए लेकिन यंहा, इस वृक्ष के उतर में ब्रह्मा जी अदृश्य रूप में रक्षा करते है, विष्णु जी वेणीमाधव (मंदिर) के रूप में और शिव तो इसी अक्षयवट के निकट विराजते है उसकी रक्षा के लिए.
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Holi festival reason of starting & time too होली का त्यौहार क्यों कबसे और कैसे हुआ शुरू, जाने गौरवशाली सनातन इतिहास से....

कोई कहता है राधा कृष्ण ने होली शुरू की तो कोई कहता है की होली में हुड़दंग क्यों तो कोई प्रह्लाद जी से होली शुरू होने की बात कहता है, जाने शाश्त्र सम्मत जानकारी..

Celina jaitley comeback in bollywood movie इंटिमेट दृश्यों की देखरेख के लिए सेलिना जेटली ने रखा सुपरवाइजर....

जानशीन फिल्म से परदीन खान के साथ डेब्यू करने वाली एक्ट्रेस सेलिना जेटली फिर सुर्खियों में है खबर है की उन्होंने इंटिमेट दृश्यों के दौरान देखरेख के लिए सुपर.....

Pawan kalyan shorter know facts "कांग्रेस हटाओ देश बचाओ" कहने वाला तमिल स्टार, मोदी को छोड़ मायावती से मिलाया है हाथ!

कांग्रेस हटाओ देश बचाओ का कभी नारा दिया था और आज भी कांग्रेस के कट्टर आलोचक तमिल फिल्मो के इस स्टार को आप टीवी पर तो जानते होंगे जाने उनका राजनितिक सफर भी???

Know full story of radha krishna marriage भांडीर वन : इस स्थान पर हुआ था राधा कृष्ण का विवाह, जाने उस बरसाती रात का रहस्य

जब इतना प्यार था तो शादी क्यों नहीं की राधा कृष्ण ने? इसका जवाब भी है जनाब बस जरुरत है शाश्त्रो के अध्ययन की. जाने हमारे साथ श्री कृष्ण राधा विवाह की बरसरि रात

Know baiju bawra full story बैजू बावरा : तानसेन को अकबर के दरबार में हराकर लिया था अपने पिता की मौत का बदला

संगीत की बात हो तो आप तानसेन का नाम ही लेते है लेकिन क्या ये ही हक़ीक़त थी? तानसेन के गुरु स्वामी हरिदास (निधिवन वाले) थे उनके ही एक और चेले बैजू बावरा ने जब लिया

Mallik sherawat untold story सफलता के बाद प्यार में बदली पिता की नफरत, मल्लिका की हुई थी घर वापसी...

मल्लिका शेरावत का जन्म एक जाट परिवार में हरियाण के हिसार जिले के मोठ नाम के एक छोटे से गांव में हुआ था और उनके पिता का नाम मुकेश कुमार लांबा है. असल में उनका...