Advertisement

आपने सुन्दरकाण्ड के ये दोहे अगर नहीं समझे तो आपका जीवन व्यर्थ है, जरूर पढ़े

"वैसे तो मनुष्य जन्म लेकर रामायण ही पढ़ना और समझना दुर्लभ है लेकिन फिर भी लोग सुन्दरकाण्ड के ही दीवाने क्यों है, अगर अपने उसका हिन्दू अनुवाद नहीं पढ़ा तो व्यर्थ जी"
Advertisement

image sources : youtube

हनुमान ही सबसे बड़े पंडित और परकाण्ड पंडित है जिन्होंने जुगल जोड़ी सीताराम का शोक हर लिया अपने वाक्यों के पराक्रम से....

सीता को सुधि लेकर लौटे हनुमान जी से जब राम जी ने पूछा की सीता क्या जीवित है....तब हनुमान जी ने सुन्दर उतर दिया 
नाम पाहरू दिवस-निशि, ध्यान तुम्हार कपाट! 
(उनके प्राणो पर राम नाम का पहरा है और आपके ध्यान का दरवाजा लगा है)
लोचन निज पद जंत्रित, जाय प्राण केहि बात!!  
(उनकी आँखों में आपके चरणों का ताला लगा है, तो प्राण कैसे जा सकते है!!

राम जी ने पूछा के सीता जी कैसी है किस हाल में है....तब हनुमान जी ने कहा...
सीता के अति विपत्ति विशाला बिनहि कहे भली दिन दयाला! 
सीता जी की विपत्ति बहुत बड़ी है लेकिन न कहने में ही भलाई है क्योंकि अगर में कहूंगा तो आपको और ज्यादा कष्ट होगा! 

तब राम जी ने कहा की तन मन से सीता मेरे प्रति समर्पित है फिर भी वो संकट में है ये मेरे लिए डूब मरने की बात है...
तब हनुमान जी ने कहा : "कह हनुमंत विपत्ति प्रभु सोइ जब तब सुमिरन भजन न होइ....."
अर्थात : हे राम जी विपत्ति का क्षण वो ही है जब आपका ध्यान, जप और भजन न हो और सीता जी तो आपके ध्यान से एक पल भी नहीं हटती तो विपत्ति कैसी......राक्षसों की औकात ही क्या आपके सामने आप जल्द ही सीता जी को ले आएंगे....

तब श्रीराम जी ने हनुमान जी की प्रसंसा करते हुए कहा.....
हे हनुमान, तुम्हारे समान मेरा उपकारी इस सृस्टि में कोई नहीं है न को सुर न कोई नर और न ही कोई प्राणी
तुम्हारे इस एहसान का में बदला कैसे चुकाओ ये सोच कर ही मेरा मन तुम्हारा सामना नहीं कर पाता है 
तुम्हे हमपे जो ऋण चढ़ा दिए है उससे में कभी मुक्त नहीं हो पाउँगा ये मेने विचार कर के देख लिया है..

इस्पे भी हनुमान जी को गर्व नहीं हुआ बल्कि वो रोते हुए राम जी के चरणों में गिर गए....
बार बार राम जी उन्हें उठाने की कोशिश करते लेकिन हनुमान जी ने उनके चरण नहीं छोड़े...

इस झांकी को याद करते हुए भगवान् शिव की आँखों से आंसू छलक गए और गला रुध गया!
ऐसे हनुमान जी ने राम जी का भी शोक हर लिया था, तुलसीदास जी को सादर प्रणाम....

जाने सीता जी को कैसे समझाया परकाण्ड पंडित हनुमान जी ने.....


image sources : youtube

रावण एक महीने का समय देकर गया तो जानकी जी धैर्य खो चुकी थी, उस दिन हनुमान नहीं पहुँचते तो शायद वो अगले दिन तक आत्मदाह करके मर जाती. हनुमान जी पेड़ पर बैठे थे उन्होंने सोचा की अगर में सीधे उनके सामने जाऊंगा तो सीता जी मुझे रावण का ही छल समझेगी और मेरा आना व्यर्थ हो जायेगा.

तब हनुमान जी ने रामकथा (जन्म से) सुनाने की सोची लेकिन अगर वो संस्कृत में कहते तो भी सीता जी को शक हो जाता इसलिए उन्होंने अयोध्या के पास प्रचलित अवधि भाषा में राम कथा आरम्भ की जिसे सुन सीता जी प्रसन्न हुई. तब सीता जी ने कहा की मेरे कानो में जो अमृत घोल रहा है वो कौन है मेरे सामने क्यों नहीं आता भाई तब हनुमान जी ने ऊपर से अंगूठी गिराई.

सीता जी अंगूठी पहचान गई लेकिन हनुमान जी से भी पहले वो मुंह फेर कर बैठ गई लेकिन तब हनुमान जी ने राम जी की कही पति पत्नी की गुप्त बातें कही तो उन्हें उनपे विश्वास हुआ और हनुमान जी को तब उन्होंने अपना धर्म पुत्र मान लिया.

डूबते को तिनके का सहारा ये मुहावरा सीता जी ने बनाया था उन्होंने हनुमान जी से कहा की मझधार में डूबती हुई मुझको तुम नाव हुए " बूड़त बिरह जलधि हनुमाना, भयहु तात मो कहुँ जलजाना॥" जय सियाराम जय जय सियाराम 
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Vijay nagar city history जाने आखिर क्या है रामायण कालीन हम्पी के निकट बसे विजयनगर का इतिहास?

रामायण के दौरान शबरी के बताये अनुसार जिस पम्पा सरोवर के पास राम जी की मुलाकात हनुमान और सुग्रीव से हुई थी उसको कन्नड़ में हम्पा कहते ऐसे पड़ा नाम अब जाने इतिहास..

Know salma agha double standards कभी दुपट्टा उतार कर काम करने को तैयार नहीं हुई थी सलमा, बाद में की बी ग्रेड मूवी

वक्त कितनी जल्दी से बदलता है ये जानना है तो अपने बचपन और आज की कैंडी के भाव में ही तुलना कर के देख लीजिये ऐसे ही फिल्मो में भी अभिनेत्रियों के संस्कार समय के...

Lord krishna meet god vishnu in vaikuntha जाने, श्री कृष्ण को जब भगवान् विष्णु ने बुलाया था अर्जुन समेत वैकुण्ठ में....

भगवान विष्णु के अनेकोनेक अवतार हुए है और धरती पर उनके ही अवतारों के आमने सामने आने और वार्ता के कई प्रसंग है लेकिन क्या आप ने कभी सुना है की कोई अवतार वैकुण्ठ..

Ranveer kapoor ex girlfriends list 300 का आंकड़ा पार करने वाले संजू के रील दत्त ने किया है कितना आंकड़ा पार, जाने?

रणवीर कपूर भी संजय की इस क्षमता के मुरीद हो गए वो कहते है की मेरा आंकड़ा अभी ** पार भी नहीं पहुंचा ऐसे में संजू की ट्रिपल सेंचुरी हैरान करने वाली है. असल में....

Bollywood actress top ugly moments बॉलीवुड एक्ट्रेस के कुछ सबसे भद्दे मोमेंट्स कैमरे में हुए कैद, ट्रोलर्स की हुई थी चांदी

बॉलीवुड एक्ट्रेस की गलतिया तो बहुत देखि समझी होगी लेकिन जब वो किसी ऐसे पल में कैद हो गई हो जो की ट्रोलर्स के लिए मौका रहा ता देखे ऐसे ही कुछ वीभत्स पलो को....

Know what is the principle of teacher to teach secret education to his pupil चेला लायक हो तभी गुरु को देनी चाहिए गुप्त शिक्षा, द्रौणाचार्य की आलोचना गलत है....

गुरु का भारतीय इतिहास में कितना महत्त्व है ये इस बात से ही जाने की खुद राम कृष्ण को भी गुरु की आवश्यकता पड़ी थी ज्ञान प्राप्ति के लिए, लेकिन अगर आप द्रोण से वैर