Advertisement

कुम्भकरण ने एक विधवा राक्षशी को बलात्कार से कर दिया था गर्भवती, शत्रुघन ने किया था उसका...

"वाल्मीकि रामायण के अनुसार, विरध नाम के राक्षस ने दण्डकारयण की यात्रा के दौरान सीता जी को अगवा करना चाहा था (खाने के लिए), तब राम जी और लक्षमण जी ने किया था उसका"
Advertisement

image sources : youtube

जन्म से राक्षश प्रवर्ति का था इसलिए मांस मदिरा व्यभिचार आदि आदि करता ही था कुम्भकर्ण लेकिन पिता से शिक्षा के आलावा उसने देवर्षि नारद से दर्शनशास्त्र की शिक्षा ली थी. उसके बल ऐश्वर्य से इंद्र भी जलता था इसलिए उसने धोखे से उसे इन्द्रासन दिलवा दिया था.

युद्ध में जब रावण ने उसे लड़ने के लिए जगवाया तो उसने रावण को भी खूब खरी खोटी सुनाई थी और पूरा दर्शन शाश्त्र का ज्ञान उड़ेल दिया था लेकिन विनाश काले विपरीत बुद्धि रावण कहा समझने वाला था. तब भी वो भाई के लिए युद्ध लड़ा और कहा की मरूंगा तो तुम्हारे लिए ही.

युद्ध के मैदान में भी उसने विभीषण का प्रणाम स्वीकार किया और उसके भाग्य को सराहा और उसे कहा की भाग्यशाली है जो राम की शरण में आ गया लेकिन में राम जी के हाथो मर के ही गति पाउँगा. हाँ लेकिन उसने युद्ध से पहले भी कुछ ऐसे अपराध किये थे जो की राक्षशी प्रवर्ति के थे. 

जाने उनके बारे में...


image sources : wikipedia

रामायण के अनुसार राम वनवास के दौरान उनका सामना एक विरध नाम के राक्षस से हुआ था जिसने सीता जी को अगवा करना चाहा था (खाने के लिए), तब राम जी और लक्षमण जी ने किया था उसका वध. वो शस्त्रों से काट दिए जाने पर भी अवध्य था इसलिए उसे जमीन में गद्दा खोद के ज़िंदा दफना दिया था दोनों भाइयो ने.

विरध की पत्नी का नाम कर्कटी था जो की विधवा होने के बाद अपने मायके चली गई थी, रावण के भाई कुम्भकरण ने उसका बलात्कार किया था और उसी से उसको गर्भ ठहर गया था. कर्कटी के गर्भ से तब कुम्भकरण का नाजायज पुत्र भीम हुआ जो की अपने नाजायज पिता की मौत का बदला लेना चाहता था.


image sources : jaimatadi

जब सभी देवता भीम को न मार पाए (ब्रह्मा से हासिल किया था वरदान) तब एक शिव भक्त राजा ने किया था उससे मुकाबला, तब भीम ने उसे अपनी जेल में कैद कर लिया था. राजा ने जेल में मिटटी का शिवलिंग बनाकर उसकी पूजा की तो भीम ने उस शिवलिंग पर तलवार से प्रहार करना चाहा था.

तब शिव ने उसे भष्म कर दिया और राजा को अभी दे दिया, उसी भीम राक्षस के नाम से भीमाशंकर पड़ गया ज्योतिर्लिंग का नाम. वर्तमान महाराष्ट्र में पंचवटी थी जबकि अस्सम भी दण्डकारयण में तो नहीं आता लेकिन उसके पास ही था! चर्चाओं से और तर्कों से इस बात का फैसला होना चाहिए की असली ज्योतिर्लिंग कौनसा है न की विवाद से...

ऐसे अनंत उसका और कुम्भकर्ण के बीज का भी अंत हुआ था....
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Know amazing facts about goddess parvati जाने शिवा को : शिव जी भगाकर ले जाना चाहते थे पार्वती को, उमा ने कहा पिता से मांगो हाथ....

आज अगर कोई बालिग बेटी किसी मन चाहे वर को पसंद करे और पिता ना कह दे तो उसे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि कानूनन वो शादी का निर्णय ले सकती है! लेकिन लिव इन में जब...

SC leaders who married to inter cast woman राष्ट्रिय (दलित) नेता जिन्होंने कीया था अंतर्जातीय (स्वर्ण समाज में) विवाह ....

आरक्षण पर ही जातिवाद स्वर्ण भड़के हुए है ऐसे में जब अंतर्जातीय विवाह की बात आती है तो वो लोग और भड़क जाते है लेकिन जब से बालिग को विवाह का हक़ मिला है तब से.......

Anushka sharma modeling days pikcs अपने मॉडलिंग के दिनों में ऐसी सिंगल पसली दिखती थी अनुष्का, पहचानना होगा मुश्किल...

अनुष्का के करियर में टर्निंग पॉइंट तब आया जब उन्होंने शहरुखके साथ रब ने बना दी जोड़ी की नहीं तो उसके पहले उनकी हालत देख आप कह ही नहीं सकते हॉकी ये अनुष्का शर्मा

Duplicate of time in same time at bollywood तो क्या जायरा और प्रिया प्रकाश दोनों के बॉयफ्रेंड थे एक ही? जाने आखिर क्या है सच...

एक मलयालम एक्ट्रेस जिसके उसी भाषा में वैलेंटाइन डे को जारी फिल्म के ट्रेलर को देख पूरा भारत दीवाना हो गया और सॉइल मीडिया में कोहराम मच गया. रातो रातो उनके सोशल

Priyanka chopda upcoming movie from hollywood Oops आखिर ऐसा काम करके क्या साबित करना चाहती है देशी गर्ल?

किसने जकड़ रखा है प्रियंका को अपनी बाहों में? ये सवाल आपके भी जेहन में होगा, असल में प्रियंका चोपड़ा के साथ इन तस्वीरों में हॉलीवुड के मसहूर अभिनेता एडम डिवाइन न

Karma bai of rajasthan full story राजस्थान की भक्त कर्मा बाई ने 21 साल की उम्र में ले ली थी समाधि, जाने उनके बारे में...

महाराष्ट्र संतो का राज्य है इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन राजस्थान में भी कुछ गैर ब्राह्मण भक्त हुए है जिन्होंने भक्ति धारा को नए आयाम दिए है जाने कर्मा बाई को