Advertisement

जाने राजनैतिक पार्टियों की नींद उड़ाने वाले नोटा के बारे में मजेदार फैक्ट्स

"इस साल दहेज़ उत्पीड़न के मामलो में जाँच के बाद कार्यवाही का आदेश दिया था सुप्रीम कोर्ट ने कोई रिएक्शन नहीं हुआ लेकिन जब दलित संरक्षण कानून में ऐसा किया गया तो...."
Advertisement

image sources : aljajeera

इस साल भारतीय उच्च न्यायालय में दो एक ही समान फैसले हुए लेकिन दोनों में से एक जबरदस्त राजनितिक मुद्दा बना तो दूसरे पर चर्चा ही नहीं हो रही है. दहेज़ प्रताड़ना के मामलो में पहले बिना जाँच FIR और गिरफ़्तारी होती थी जिसके चलते बहुओ का खौफ फ़ैल गया था समाज में, अब शादी के बाद ही अलग हो जाते है बेटा बहु.

इस साल न्यायालय ने इसे गलत बताते हुए इसमें बदलाव किया, लेकिन ऐसा ही कानून दलित संरक्षण कानून भी था जिसे भी न्यायालय ने 7 दिन की जांच के बाद FIR गिरफ़्तारी के साथ पलट कर फैसला किया. लेकिन चूँकि ससुराल वाले वोट बैंक नहीं और दलित राजनीती इस लोकसभा चुनाव में निर्णायक होगी तो इस बदलाव में जबरदस्त हिंसा और बहस हुई.

आखिरकार केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला पल्टा और फिर से पहले वाली स्तिथि यथावत कर दी. लेकिन इससे हिंसक हो चूका दलित समाज तो शांत हो गया लेकिन अब स्वर्ण समाज में जातिवाद के चलते उबाल है, सोशल मीडिया के जरिये अब नोटा अभियान चला रहा है जिससे राजनैतिक पार्टिया सेहम गई है.

जाने आखिर क्या है ये नोटा और इसके चौंकाने वाले तथ्य भी...


image sources : deshkijanta

नोटा का अर्थ है नॉन ऑफ़ अबोव यानी जब जनता वोट डालने जाए तो उनके पास खड़े हुए प्रत्याशियों में से किसी को भी न चुनने का भी हक़ है. इससे पहले लोग या तो वोट ही नहीं देते थे या फिर निर्दलीय को वोट दे देते थे, हालाँकि नोटा से सिर्फ नकारात्मक चुनाव ही सामने आते है ये परिणाम को प्रभावित नहीं कर सकता है लेकिन जिसके वोट टूटे उसे तो चिंता होगी ही.

यूपीए 2 दे दौरान सरकार के पास नोटा का प्रावधान करने का सुझाव आया था लेकिन सरकार ने इसे खारिज कर दिया. तब सुप्रीम कोर्ट के जरिये इसकी समीक्षा की गई और अनंत कोर्ट के आदेश के बाद तत्कालीन सरकार को नोटा का प्रावधान करने की व्यवस्था करनी पड़ीं थी.


image sources : WTDnews

नोटा को चुनाव आयोग में शुरू में घदे का चिन्ह दिया था जिसे बाद में बदल कर बैलट मशीन पर क्रॉस कर के दे दिया गया. कर्नाटक चुनाव में नोटा से कम से कम 15 सीटों पर चुनाव परिणाम प्रभावित हुए थे, इसी के भय से केरल पंचायत चुनाव में नोटा नहीं दिया गया था मतदाताओं को, राज्यसभा में भी नोटा था जिसे सुप्रीम कोर्ट ने अब रोक दिया है.

नोटा में अभी और भी सुधार की जरुरत है तभी होगा ये कारगर नहीं तो सिर्फ वोटिंग प्रतिशत बढ़ाने वाला ही होगा. जाने कुछ सुझाव.... सबसे ज्यादा नोटा वोट बढ़ने पर दुबारा चुनाव हो या कुछ निश्चित प्रतिशत से ज्यादा नोटा वोट होने पर दुबारा चुनाव हो. 

अगर नोटा के चलते दुबारा चुनाव  हुए तो दूसरे चुनाव में इसका विकल्प न हो, हारने वाले टॉप राजनैतिक दल चुनाव खर्च उठाये. नोटा से हारने वाले प्रतिभागी कुछ समय के लिए या आजीवन प्रतिबंधित हो चुनाव लड़ने से और सबसे बेहतर की के अगर जित के अंतर से ज्यादा हो नोटा वोट तो भी दुबारा हो चुनाव.

वैसे कई देशो में ये लागु हुआ तो बेन भी हो गया लेकिन भारत में अभी इस्पे शोध जारी है...

story sources :wikipedia
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Know amazing facts about goddess parvati जाने शिवा को : शिव जी भगाकर ले जाना चाहते थे पार्वती को, उमा ने कहा पिता से मांगो हाथ....

आज अगर कोई बालिग बेटी किसी मन चाहे वर को पसंद करे और पिता ना कह दे तो उसे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि कानूनन वो शादी का निर्णय ले सकती है! लेकिन लिव इन में जब...

SC leaders who married to inter cast woman राष्ट्रिय (दलित) नेता जिन्होंने कीया था अंतर्जातीय (स्वर्ण समाज में) विवाह ....

आरक्षण पर ही जातिवाद स्वर्ण भड़के हुए है ऐसे में जब अंतर्जातीय विवाह की बात आती है तो वो लोग और भड़क जाते है लेकिन जब से बालिग को विवाह का हक़ मिला है तब से.......

Anushka sharma modeling days pikcs अपने मॉडलिंग के दिनों में ऐसी सिंगल पसली दिखती थी अनुष्का, पहचानना होगा मुश्किल...

अनुष्का के करियर में टर्निंग पॉइंट तब आया जब उन्होंने शहरुखके साथ रब ने बना दी जोड़ी की नहीं तो उसके पहले उनकी हालत देख आप कह ही नहीं सकते हॉकी ये अनुष्का शर्मा

Kumbhakaran secret evil story कुम्भकरण ने एक विधवा राक्षशी को बलात्कार से कर दिया था गर्भवती, शत्रुघन ने किया था उसका...

वाल्मीकि रामायण के अनुसार, विरध नाम के राक्षस ने दण्डकारयण की यात्रा के दौरान सीता जी को अगवा करना चाहा था (खाने के लिए), तब राम जी और लक्षमण जी ने किया था उसका

Duplicate of time in same time at bollywood तो क्या जायरा और प्रिया प्रकाश दोनों के बॉयफ्रेंड थे एक ही? जाने आखिर क्या है सच...

एक मलयालम एक्ट्रेस जिसके उसी भाषा में वैलेंटाइन डे को जारी फिल्म के ट्रेलर को देख पूरा भारत दीवाना हो गया और सॉइल मीडिया में कोहराम मच गया. रातो रातो उनके सोशल

Priyanka chopda upcoming movie from hollywood Oops आखिर ऐसा काम करके क्या साबित करना चाहती है देशी गर्ल?

किसने जकड़ रखा है प्रियंका को अपनी बाहों में? ये सवाल आपके भी जेहन में होगा, असल में प्रियंका चोपड़ा के साथ इन तस्वीरों में हॉलीवुड के मसहूर अभिनेता एडम डिवाइन न