Advertisement

असुरो के संघार के लिए शिव ने धारण किया था भैंसे का रूप, जाने केदारनाथ की कथा...

"अभी श्रावण चल रहा है और भले ही बारिश और आपदाये हो लेकिन केदारनाथ में भीड़ अपरम्पार है, वैसे तो माँ दुर्गा ने महिषरूपी असुर का संहार किया था लेकिन कभी शिव ने भी.."
Advertisement

image sources : youtube

श्रावण महिने मे शिव मंदिरो में अपार भीड़ उमड़ती है लेकिन शिव जी के 12 ज्योतिर्लिंगों में तो साल भर ही शिवरात्रि ही रहती है. इन्ही ज्योतिर्लिंगों में से एक है केदारनाथ ज्योतिर्लिंग जो की चारधाम की यात्रा में से एक बद्रीनाथ के साथ ही दर्शन के लिए उपलब्ध होता है.

दोनों ही मंदिर सर्दियों के चार महीनो के लिए बंद हो जाते है, इन चार महीनो के दौरान शिव और भगवान् विष्णु धरती पर कंही अन्यंत्र ही निवास करते है. बद्रीनाथ की कथा तो हम आपको पहले भी बता चुके है लेकिन क्या आप केदारनाथ धाम की स्थापना और नामकरण के बारे में भी जानते है कुछ?

किसने की थी स्थापना, नामकरण के पीछे है क्या तात्पर्य और क्या होता है महत्त्व कुंड विशेष में नहाकर दर्शन करने का फ्ला फ्ला? आज जाने केदारनाथ के नाम करण समेत सभी तत्व, यंहा असुरो के संघार के लिए शिव ने धारण किया था भैंसे का रूप, जाने केदारनाथ की कथा...


image sources :Hindugod

एक समय की बात है, हिरण्याक्ष नाम के एक राक्षस और उसके 4 और राक्षशो ने त्रिलोकी पर राज स्थापित कर लिया था और इंद्र को अपदस्त कर लिया था. तब सत्ता वापसी के लिए इंद्र ने ब्रह्मा जी से याचना की तब उन्होंने उसे धरती पर उत्तराखंड जैसे देव क्षेत्र में तपस्या करने को कहा.

इंद्र ने तब घोर तप किया, पहले एक वक्त फलाहार फिर पानी पर तो फिर सूखे पतों पर और अनंत वायु पीकर शिव जी की तपस्या की और तब....


image sources : wikipedia

तब वंहा शिव जी महिष (भैंसे) के रूप में प्रकट हुए और कहा "के दरियामि" मतलब किसको मारु, तब इंद्र ने अपनी समस्या बताई और भारी युद्ध के बाद महिष रूपी शिव ने उन पांच असुरो का संहार कर दिया.

तब इंद्र ने भगवान् शिव से कहा की आप इन्ही विराजित हो जाइये, के दरियामि कहने के चलते इंद्र ने इस स्थान का नाम केदार नाथ रख दिया. आज भी इंद्र हर रोज यंहा स्वर्ग से शिव की उपासना करने आते है. वंही स्तिथ एक कुंड में वो स्नान करते है जिसके बाद दर्शन करने पर ही यात्रा का पूर्ण फल मिलता है.

शिव इंद्र को प्रत्यक्ष दर्शन भी देते है, लेकिन सर्दी में जब इंद्र को शिव के दर्शन नहीं हुए तो आकाशवाणी से शिव ने बताया की इन चार महीनो में में चमत्कारपुर/हाटकेश्वर क्षेत्र यानी पुष्कर में निवास करता हु तो इन सर्दी के चार महीनो में शिव की पूजा करने के लिए इंद्र पुष्कर जाते है वंहा भी शिव का बड़ा तीर्थ है.

story sources :skandpuran
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Know secret of lost city of krishna श्री कृष्ण की बसाई हुई द्वारका नगरी का नष्ट होने से बचा जमीन का हिस्सा ही है बेत द्वारका

श्राप के कारण समूचा यदुवंश आपस में ही लड़ के मर गया, पर श्रीकृष्ण के रुक्मणी पुत्र प्रद्युम्य् का का पोता और अनिरुद्ध का बेटा जो की अंधकासुर की बेटी से पैदा हुआ

Bollywood & cricket funny picks मूड मस्त कर देने वाली कुछ सेलिब्रिटी पिक्स आप भी कहेंगे वाह भाई वाह...

तनाव के इस जीवन में अगर को घड़ी भर की भी हंसी दे दे तो वो ही आपका सच्चा दोस्त है ऐसे में हम भी अपना फर्ज निभाते हुए दिखा रहे है कुछ ऐसी ही तस्वीरें जो आपको मस्त

Know secret fight of kangana with prabhas बाहुबली ने की थी कुछ ऐसी हरकत के झगड़ पड़ी थी कंगना रनौत, अब गर्व कर रही है अपनी दुश्मनी पर...

तन्नू वेड्स मन्नू से कंगना को ऐ ग्रेड की एक्ट्रेस का दर्जा मिला तो प्रभास को बाहुबली बिगनिंग और कन्क्लूजन से, लेकिन क्या आपको पता है साथ काम करते हुए लड़ पड़े थे

Krishna janmashthmi secret of moksha जयंती जन्माष्ठमी : इस वर्ष की जन्माष्टमी में बन रहे है दुर्लभ मोक्ष के संयोग, जाने रहस्य...

दो दो जन्माष्ठमी आखिर ये चक्कर क्या है भाई? सिर्फ जन्माष्ठमी ही नहीं भारत में कई बार एक ही त्यौहार भारत में ही दो अलग अलग दिन मनाये जाते है! आप तो दोनों ही मना

Bollywood & TV child actress then & now अब ऐसे दीखते है टीवी और सिनेमा के बाल कलाकार के देखते रह जायेंगे आप....

बॉलीवुड में या तो ऑडिशन से या किसी स्टार पुत्र को ही बाल कलाकार के रूप में लेने की परम्परा रही है उनका सिलेक्शन इतना बढ़िया होता है की वो सभी के दिलो को......

Bollywood actresses who turn politicians वर्तमान भारतीय राजनीती की खूबसूरत एक्ट्रेस जिनके चार्म से बढ़ जाती है रैलियों की रौनक...

बॉलीवुड में भले ही एक्ट्रेस की ईजत एक बेबीडॉल के जैसे ही है जो सिर्फ चार्म के लिए काम आती है लेकिन राजनीती में भी अब इनका बहुतायत में आवागमन बढ़ गई है, हालही में