Advertisement

असुरो के संघार के लिए शिव ने धारण किया था भैंसे का रूप, जाने केदारनाथ की कथा...

"अभी श्रावण चल रहा है और भले ही बारिश और आपदाये हो लेकिन केदारनाथ में भीड़ अपरम्पार है, वैसे तो माँ दुर्गा ने महिषरूपी असुर का संहार किया था लेकिन कभी शिव ने भी.."
Advertisement

image sources : youtube

श्रावण महिने मे शिव मंदिरो में अपार भीड़ उमड़ती है लेकिन शिव जी के 12 ज्योतिर्लिंगों में तो साल भर ही शिवरात्रि ही रहती है. इन्ही ज्योतिर्लिंगों में से एक है केदारनाथ ज्योतिर्लिंग जो की चारधाम की यात्रा में से एक बद्रीनाथ के साथ ही दर्शन के लिए उपलब्ध होता है.

दोनों ही मंदिर सर्दियों के चार महीनो के लिए बंद हो जाते है, इन चार महीनो के दौरान शिव और भगवान् विष्णु धरती पर कंही अन्यंत्र ही निवास करते है. बद्रीनाथ की कथा तो हम आपको पहले भी बता चुके है लेकिन क्या आप केदारनाथ धाम की स्थापना और नामकरण के बारे में भी जानते है कुछ?

किसने की थी स्थापना, नामकरण के पीछे है क्या तात्पर्य और क्या होता है महत्त्व कुंड विशेष में नहाकर दर्शन करने का फ्ला फ्ला? आज जाने केदारनाथ के नाम करण समेत सभी तत्व, यंहा असुरो के संघार के लिए शिव ने धारण किया था भैंसे का रूप, जाने केदारनाथ की कथा...


image sources :Hindugod

एक समय की बात है, हिरण्याक्ष नाम के एक राक्षस और उसके 4 और राक्षशो ने त्रिलोकी पर राज स्थापित कर लिया था और इंद्र को अपदस्त कर लिया था. तब सत्ता वापसी के लिए इंद्र ने ब्रह्मा जी से याचना की तब उन्होंने उसे धरती पर उत्तराखंड जैसे देव क्षेत्र में तपस्या करने को कहा.

इंद्र ने तब घोर तप किया, पहले एक वक्त फलाहार फिर पानी पर तो फिर सूखे पतों पर और अनंत वायु पीकर शिव जी की तपस्या की और तब....


image sources : wikipedia

तब वंहा शिव जी महिष (भैंसे) के रूप में प्रकट हुए और कहा "के दरियामि" मतलब किसको मारु, तब इंद्र ने अपनी समस्या बताई और भारी युद्ध के बाद महिष रूपी शिव ने उन पांच असुरो का संहार कर दिया.

तब इंद्र ने भगवान् शिव से कहा की आप इन्ही विराजित हो जाइये, के दरियामि कहने के चलते इंद्र ने इस स्थान का नाम केदार नाथ रख दिया. आज भी इंद्र हर रोज यंहा स्वर्ग से शिव की उपासना करने आते है. वंही स्तिथ एक कुंड में वो स्नान करते है जिसके बाद दर्शन करने पर ही यात्रा का पूर्ण फल मिलता है.

शिव इंद्र को प्रत्यक्ष दर्शन भी देते है, लेकिन सर्दी में जब इंद्र को शिव के दर्शन नहीं हुए तो आकाशवाणी से शिव ने बताया की इन चार महीनो में में चमत्कारपुर/हाटकेश्वर क्षेत्र यानी पुष्कर में निवास करता हु तो इन सर्दी के चार महीनो में शिव की पूजा करने के लिए इंद्र पुष्कर जाते है वंहा भी शिव का बड़ा तीर्थ है.

story sources :skandpuran
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Sridevi hot navel picks controversy ऐसे ही नहीं की थी रामगोपाल ने श्रीदेवी की कमर पर अश्लील टिप्पणी, जाने उसके पीछे का राज

श्रीदेवी को मरे हुए अभी एक साल नहीं हुआ है लेकिन अभी भी लोगो को विशवास नहीं की वो अब हमारे बिच नहीं लेकिन उनकी सुंदरता के दीवानो ने जो कुछ कहा वो चौंकाने वाला..

Know full details about 7 cities सप्तपुरी : आखिर क्या रहस्य है इन 7 भारतीय शहरों का?

भारत अध्यात्म का शहर है और यंहा पर लोग जन्म से ही धार्मिक प्रवर्ति के होते है जो की कर्मो में आगा पीछा देखते है लेकिन इनमे 7 पुरियो की सबसे ज्यादा चर्चा होती है

Poonam dhillon share rajesh khanna moment of live 13 साल की पूनम ढिल्लों के साथ राजेश खन्ना ने की थी गंधी बात, बाद में उसी के साथ किया काम

तब मीडिया और इंटरनेट उतना नहीं था इसके चलते जो भी बॉलीवुड इतिहास की चटपटी खबरे है वो किसी ने किसी पूर्व स्टार के इंटरव्यू या बुक में ही सुनने मिलते है जाने एक..

Sunny forced by dharmendra to work with jaya पिता के साथ रोमांस की हुई एक्ट्रेस के साथ सनी नहीं करना चाहते थे रोमांस लेकिन....

सनी देओल कभी भी कोई काम करते थे तो अपने मेंटर पिता धरम पाजी से जरूर सलाह लेते थे लेकिन एक बार उन्हें अपनाये फैसला भारी पड़ गया और वो खुद की नजरो में ही गिर गए...

Story of mahishasur demon berth श्रापित अप्सरा थी इस दानव की माँ, दिन में औरत तो रात में भैंस बन जाती थी! पति को भी पेट में...

ब्रह्मा ने अपने मानस पुत्रो और प्रजापतियों की रचना की जिससे श्रिष्टि आगे बढ़ सके, उनके द्वारा रचे गए प्रजापतियों में से एक थे दक्ष जिनकी पुत्रियों से कश्यप ऋषि

Dipika padukone ugliest picks दीपिका की बेहद भद्दी तस्वीरें जिन्हे देख होगा सफलता पर शक.....

गॉर्जियस, खूबसूरत, ये वो फलाना ढिमका कही जाने वाली एक्ट्रेसेस जब शादी करती है तो उनकी चॉइस को क्या हो जाता है? खूबसूरत से खूबसूरत एक्ट्रेस जब सेटल होने जाती है