Advertisement

सभी व्रतों में जल पीना वर्जित होता है, निर्जला एकादशी का सही नाम है भीम द्वादशी! जाने

"ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को आम भाषा में आजकल निर्जला एकादशी कहते है लेकिन असल में सभी व्रतों में जल पीना वर्जित है मतलब पिने से व्रत खंडित हो जाता है"
Advertisement

image sources : youtube

हर वर्ष भारतीय पंचांग के ज्येष्ठ महीने में शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी के रूप में मनाया जाता है या उपवास रखा जाता है. ऐसी मान्यता है की इस दिन की एकादशी में जल नहीं पीया जाता है, एक तो प्रचंड गर्मी और ऊपर से पानी भी न पिए तो कैसी हालत होगी.

इस एकादशी का महत्त्व तब बढ़ जाता है जब पुरे साल एकादशी न करने वाले (23 या 25 * अधिकमास में) अगर ये एकादशी भी कर ले तो भी उनको उतना ही पुण्य मिलता है जितना की सालभर करने वाले को. महाभारत में लिखा है एक ऐसा ही प्रसंग जिसके चलते ये एकादशी कहलाती है भीम एकादशी/द्वादशी.

दरअसल भीम से भूख बर्दाश्त नहीं होती थी और वो कोई व्रत उपवास नहीं करता था जबकि बाकी सभी पांडव एकादशी व्रत करते थे. ऐसे में एक दिन भीम ने भगवान् कृष्ण से ऐसा कोई सरल उपाय पूछा जिसके चलते उसे भी उतना ही पुण्य मिल जाए जो सालभर एकादशी करने से मिलता है.

तब कृष्ण ने बताई भीम को इस व्रत की विधि...


image sources : youtube

भीम के पूछने पर भगवान् कृष्ण ने कहा था की ज्येष्ठ मास जो की सबसे गरम होता है उसमे अगर शुक्ल पक्ष की एकादशी को व्रत रखा जाए. रात में मण्ड बनाकर उसमे एक घड़ा स्थापित किया जाए जिसमे मुंग के दाने जितना छेड़ करे उसमे पानी रखे और रातभर उसकी जलधार पाने पर गिरने दे और सोये नहीं.

उभर स्नान कर के ब्राह्मणो को भोजन कराकर के दोपहर बाद में भोजन कर व्रत खोले ऐसे किये गए एकादशी व्रत से सभी 24 एकादशियो का फल मिलता है. इसे निर्जला एकादशी पता नहीं किसने नाम दिया क्योंकि सभी एकादशियो में या सभी व्रतों में जल नहीं पीया जाता है.

दिन में सोने से, शहद खाने से (अन्न तो सर्वथा वर्जित है) और एक बार से ज्यादा पानी पिने से कोई भी व्रत हो वो टूट जाता है. हालाँकि अब लोगो में शक्ति नहीं इसलिए वो श्रद्धा के अनुसार अपने शरीर को ध्यान में रखते हुए जैसा होता है वैसा व्रत करते है लेकिन बाकि तीन युगो में ऐसा नहीं होता था.

शायद निर्जला में एक बार भी जल नहीं पिया जाता होगा इसके चलते इसे निर्जला कहा जाता है, लेकिन सामर्थ्य (शरीर में) तभी व्रत करे. एकादशी के दिन अन्न न खाये बस, फलाहार चाहे जीतनी बार करे कोई मनाही नहीं है क्योंकि भूखे मरने से पाप लगता है सेहन हो जाए तो पाप नहीं लगता है.
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Saint meera related place & things still alive राजस्थान की भक्त मीरा करती थी जिस मूर्ति की पूजा, जाने अब वो है कँहा???

अजीब बात है जिस राठोड वंश ने अपनी आन बान के लिए विधवा मीरा बाई को कष्ट दिए और मारने का प्रयास किया, आज उसी के नाम से राठोड़ो की शान है और मर गए मारने वाले मीरा..

Know nikitin dheer & his career महाभारत के खलनायक कर्ण का बेटा भी बन गया है खलनायक, जाने उसके बारे में...

महाभारत के सबसे बड़े खलनायको में से एक (दुर्योधन शकुनि दुशासन जयद्रत अन्य थे) कर्ण का रोल करने वाले पंकज धीर को कौन नहीं जानता है लेकिन अब उनके पुत्र भी विलेन बन

Sunny leone now in madam tussad मेडम तुसाद में कुछ ऐसी पोजीशन में लगी है सनी लीओन की प्रतिमा, देख कर हंस पड़ेंगे आप

बिगबॉस के लिए भारत आई सनी लियॉन अब शायद भारत की ही होकर रह गई है, हालही में उन्होंने एक बच्ची भी गोद ली है और उनके पति भी इन्ही शिफ्ट हो गए है. सनी का कहना है..

Know amazing facts about goddess parvati जाने शिवा को : शिव जी भगाकर ले जाना चाहते थे पार्वती को, उमा ने कहा पिता से मांगो हाथ....

आज अगर कोई बालिग बेटी किसी मन चाहे वर को पसंद करे और पिता ना कह दे तो उसे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि कानूनन वो शादी का निर्णय ले सकती है! लेकिन लिव इन में जब...

SC leaders who married to inter cast woman राष्ट्रिय (दलित) नेता जिन्होंने कीया था अंतर्जातीय (स्वर्ण समाज में) विवाह ....

आरक्षण पर ही जातिवाद स्वर्ण भड़के हुए है ऐसे में जब अंतर्जातीय विवाह की बात आती है तो वो लोग और भड़क जाते है लेकिन जब से बालिग को विवाह का हक़ मिला है तब से.......

Anushka sharma modeling days pikcs अपने मॉडलिंग के दिनों में ऐसी सिंगल पसली दिखती थी अनुष्का, पहचानना होगा मुश्किल...

अनुष्का के करियर में टर्निंग पॉइंट तब आया जब उन्होंने शहरुखके साथ रब ने बना दी जोड़ी की नहीं तो उसके पहले उनकी हालत देख आप कह ही नहीं सकते हॉकी ये अनुष्का शर्मा