Advertisement

सभी व्रतों में जल पीना वर्जित होता है, निर्जला एकादशी का सही नाम है भीम द्वादशी! जाने

"ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को आम भाषा में आजकल निर्जला एकादशी कहते है लेकिन असल में सभी व्रतों में जल पीना वर्जित है मतलब पिने से व्रत खंडित हो जाता है"
Advertisement

image sources : youtube

हर वर्ष भारतीय पंचांग के ज्येष्ठ महीने में शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी के रूप में मनाया जाता है या उपवास रखा जाता है. ऐसी मान्यता है की इस दिन की एकादशी में जल नहीं पीया जाता है, एक तो प्रचंड गर्मी और ऊपर से पानी भी न पिए तो कैसी हालत होगी.

इस एकादशी का महत्त्व तब बढ़ जाता है जब पुरे साल एकादशी न करने वाले (23 या 25 * अधिकमास में) अगर ये एकादशी भी कर ले तो भी उनको उतना ही पुण्य मिलता है जितना की सालभर करने वाले को. महाभारत में लिखा है एक ऐसा ही प्रसंग जिसके चलते ये एकादशी कहलाती है भीम एकादशी/द्वादशी.

दरअसल भीम से भूख बर्दाश्त नहीं होती थी और वो कोई व्रत उपवास नहीं करता था जबकि बाकी सभी पांडव एकादशी व्रत करते थे. ऐसे में एक दिन भीम ने भगवान् कृष्ण से ऐसा कोई सरल उपाय पूछा जिसके चलते उसे भी उतना ही पुण्य मिल जाए जो सालभर एकादशी करने से मिलता है.

तब कृष्ण ने बताई भीम को इस व्रत की विधि...


image sources : youtube

भीम के पूछने पर भगवान् कृष्ण ने कहा था की ज्येष्ठ मास जो की सबसे गरम होता है उसमे अगर शुक्ल पक्ष की एकादशी को व्रत रखा जाए. रात में मण्ड बनाकर उसमे एक घड़ा स्थापित किया जाए जिसमे मुंग के दाने जितना छेड़ करे उसमे पानी रखे और रातभर उसकी जलधार पाने पर गिरने दे और सोये नहीं.

उभर स्नान कर के ब्राह्मणो को भोजन कराकर के दोपहर बाद में भोजन कर व्रत खोले ऐसे किये गए एकादशी व्रत से सभी 24 एकादशियो का फल मिलता है. इसे निर्जला एकादशी पता नहीं किसने नाम दिया क्योंकि सभी एकादशियो में या सभी व्रतों में जल नहीं पीया जाता है.

दिन में सोने से, शहद खाने से (अन्न तो सर्वथा वर्जित है) और एक बार से ज्यादा पानी पिने से कोई भी व्रत हो वो टूट जाता है. हालाँकि अब लोगो में शक्ति नहीं इसलिए वो श्रद्धा के अनुसार अपने शरीर को ध्यान में रखते हुए जैसा होता है वैसा व्रत करते है लेकिन बाकि तीन युगो में ऐसा नहीं होता था.

शायद निर्जला में एक बार भी जल नहीं पिया जाता होगा इसके चलते इसे निर्जला कहा जाता है, लेकिन सामर्थ्य (शरीर में) तभी व्रत करे. एकादशी के दिन अन्न न खाये बस, फलाहार चाहे जीतनी बार करे कोई मनाही नहीं है क्योंकि भूखे मरने से पाप लगता है सेहन हो जाए तो पाप नहीं लगता है.
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Know previous berth story of king bali स्कन्द पुराण : अपने पूर्व जन्म में नास्तिक जुवारी थे राजा बलि, जाने शिव कृपा से कैसे बने दानवीर?

राजा बलि को तो सभी जानते है भले ही दानव थे लेकिन भक्त प्रह्लाद के पौत्र थे और उनके पिता विरोचन भी दानवीर थे, लेकिन आखिर उन्होंने ऐसा क्या कर्म किया होगा की उन्ह

Chitrangada singh hot photos will make you mad 41 की चित्रांगदा सिंह की इन मसालेदार फोटोज ने साबित किया उम्र सिर्फ एक आंकड़ा

कहा की अपनी टाँगे रगड़ो ...........ऐसी परिस्तिथि में तमतमाई चित्रांगदा ने फिल्म छोड़ दी और इंटरव्यू में जम के बरसी दोनों पे! लेकिन दोनों ही अपने बचाव में आ गए और

Nepotism bollywood star who utilized there opportunity वंशवाद से बॉलीवुड में उतरे कुछ ऐसे सितारे जिन्होंने बढ़ाया अपने वंश का मान...

कंगना रनौत ने खुद को बॉलीवुड में साबित किया और उसके बाद वंशवाद पर प्रहार किया लेकिन ऐसा भी नहीं है की सभी वंशवादी बेकार ही निकले है जाने ऐसो को जिन्होंने बढ़ाया

Know Interesting things about cow महिलाओ की तरह बच्चे के जन्म पर गाय का भी रखा जाता है 10 दिन का जननाशौच!

शहरों का तो पता नहीं भैया लेकिन गाँवो में आज भी बच्चे के जन्म पर माँ को 10 दिन का सूतक लगता है और सपिण्डियों को पातक लगता है लेकिन गाय के प्रसव के बाद भी 10 दिन

Bollywood actresses flop sisters story सुपर फ्लॉप बहने जिन्होंने किया टॉप एक्ट्रेसेस को शर्मिंदा अपने प्रदर्शन से...

भले ही शुरुवात खराब रही हो लेकिन शादी के पहले और बाद भी अपनी एक्टिंग से तनूजा से बेहतर प्रदर्शन कर काजोल ने अपनी माँ को गौरवान्वित किया है लेकिन जैसे मोर अपने..

Bollywood actress wore same dress as hollywood and shamed herself अपनी पहनी हुई ड्रेस बहिन को पहनकर दीपिका ने फैलाया रायता, देखे ऐसे ही उदाहरण

समकालीन दो सगी बहने बॉलीवुड में कभी भी सुपर हिट नहीं रही है इसी के चलते दूसरी बहिन लाइम लाइट से दूर ही रहती है लेकिन दीपिका पादुकोण ने ऐसा कचरा कर दिया अपनी बहन