Advertisement

असल में रावण के सगे दादा द्वारा भेजा गया सन्देश ही कहा था विभीषण ने, बदले में पड़ी लाते ..

"जब सागर तट पर राम जी की सेना आ गई तो गुप्तचरों ने जाकर रावण को सुचना दी ऐसे में विभीषण अपने भाई के पास गए और उन्हें ज्ञानपूर्वक बातें कही जिससर रावण भड़क गया...."
Advertisement

image sources: quara

हनुमान जी ने वापस लौट कर सीता जी की सुधि दी और तुरंत ही सेना ने लंका की तरफ कुछ कर लिया, रामेश्वरम में सागर तट पहुँच कर सेना ने अपना शिविर लगाया तो वंहा मौजूद रावण के गुप्तचरों ने दरबार में सुचना दी. 
"निज निज गृह सब करीबी विचार आवहि सम्पद सिंधु ही पारा, जासु दूत बल बरनी न जाए तेहि आये पुर कवन भलाही!"

अर्थात लंकावासी अपने अपने घर में विचार करने लगे की राम जी की सेना समुद्र तट पर आ पहुंची है, जिनके दूत हनुमान के बल का भी अभी अनुमान नहीं है उनकी पूरी सेना आएगी तो लंका वासियो के कुल की रक्षा कैसे संभव होगी.

ऐसे ही मंदोदरी ने भी रावण को समझाया लेकिन विनाश काळा विपरीत बुद्धि के चलते वो नहीं समझा तब विभीषण दरबार में आया और उसने भी रावण को समझाने का प्रयास किया. माल्यवंत नाम के मंत्री ने भी ऐसा ही किया लेकिन उसे तो रावण ने दांत कर भगा दिया दरबार से.

लेकिन विशिक्षण तब भी चुप नहीं हुआ और उसने वो बात कही जो रावण के दादा ने कहलवा भेजी थी...


image sources: haribhakti

"तात राम नहीं नर भूपाला, भुवनेश्वर काल्हु कर काला! देहु नाथ प्रभु कहु वैदेही, भजहु राम बिन हेतु सनेही!!
जासु नाम त्रय ताप नशावन, सोइ प्रभु प्रकटे समझ जिय रावण! बार बार पद लागहु विनय करहु देशशीश...!!"

विभीषण ने कहा की है भाई, राम को साधारण राजकुमार नहीं बल्कि त्रिलोक पति भगवान् विष्णु स्वयं ही प्रकट हुए है. सीता को देकर राम जिकी शरण लीजिए. जिनके नाम के स्मरण मात्र से ही मोक्ष मिल जाता है उनसे बैर मत कीजिये, बार बार आपके पकड़ कर आपसे विनती करता हूँ कृपया राम की शरण में चलिए.

तब भी रावण नहीं माना और गुस्से में आकर उसने अपने छोटे भाई को ही लातो से मारना आरम्भ कर दिया था, जबकि ये सारे वचन विभीषण के नहीं बल्कि रावण के दादा के थे. 

"मुनि पुलस्ति निज शिष्य सन, कही पैठि ये बात तुरत सो में प्रभु सन कही पाई सुवसरु तात" अर्थात रावण के दादा पुलस्त्य जी ने अपने शिष्य को भेज कर वो सन्देश भिजवाया था जिसे विभीषण ने दरबार में पड़ा था तब पर भी अहंकारी रावण ने वो सुझाव नहीं माना और अनंत राम जी के हाथो से मारा गया था.
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Nandikeshwar mahadev temple of nanderia village gujrat नंदिकेश्वर महादेव: द्रौपदी के ही जैसे भगवान् शंकर ने भी बचाई थी एक विधवा की आबरू..

भगवान् शंकर के 12 ज्योतिर्लिंगों के बारे में तो अपने सुन ही रखा है लेकिन इन सभी ज्योतिर्लिंगों के 12 उप लिंग भी है शिव पुराण में उनका वर्णन है. जाने उन्ही में..

Bollywood cute actress flop due to talnet सिर्फ सुन्दर होना ही काफी नहीं हिट होने के लिए, टैलेंट बिना सब सुन्न;;;

किसी बॉलीवुड से अनजान शक्श को इसमें एंट्री के लिए चेक जेक आदि आदि लगते है महिलाओ को कास्टिंग काउच जो की भी गॅरंटी नहीं काम की. ऐसे में सिर्फ सुन्दर होने वाली...

Bollywood top actress shocking by mistake oops इन एक्ट्रेस से अनचाहे ही हो गई ऐसी गलती होना पड़ा शर्मिंदा....

पुरुष प्रधान बॉलीवुड में मर्द तो टॉप लेस्स या शिरट्लेस्स घूम सकते है लेकिन महिलाये नहीं इसके ऊपर उनकी ड्रेस में से भी कुछ छलक जाए तो उनकी बेंड बजा देते है सभी.

Know secret of lost city of krishna श्री कृष्ण की बसाई हुई द्वारका नगरी का नष्ट होने से बचा जमीन का हिस्सा ही है बेत द्वारका

श्राप के कारण समूचा यदुवंश आपस में ही लड़ के मर गया, पर श्रीकृष्ण के रुक्मणी पुत्र प्रद्युम्य् का का पोता और अनिरुद्ध का बेटा जो की अंधकासुर की बेटी से पैदा हुआ

Bollywood & cricket funny picks मूड मस्त कर देने वाली कुछ सेलिब्रिटी पिक्स आप भी कहेंगे वाह भाई वाह...

तनाव के इस जीवन में अगर को घड़ी भर की भी हंसी दे दे तो वो ही आपका सच्चा दोस्त है ऐसे में हम भी अपना फर्ज निभाते हुए दिखा रहे है कुछ ऐसी ही तस्वीरें जो आपको मस्त

Know secret fight of kangana with prabhas बाहुबली ने की थी कुछ ऐसी हरकत के झगड़ पड़ी थी कंगना रनौत, अब गर्व कर रही है अपनी दुश्मनी पर...

तन्नू वेड्स मन्नू से कंगना को ऐ ग्रेड की एक्ट्रेस का दर्जा मिला तो प्रभास को बाहुबली बिगनिंग और कन्क्लूजन से, लेकिन क्या आपको पता है साथ काम करते हुए लड़ पड़े थे