Advertisement

शिव भक्त नहीं था रावण, सिर्फ वरदान के लिए करता था उपासना! जैसे ऐसे ही कुछ फैक्ट्स....

"रावण के बारे में कई अफवाहे फैलाई गई है जिसमे से ये भी एक है, कुछ लोग राक्षस होते हुए भी उसे ब्राह्मण कहते है ये भी आश्चर्य की बात है! जाने ऐसे ही कुछ फैक्ट्स जो"
Advertisement
सीता हरण के आलावा हजारो अप्सराओ, गन्धर्व कन्याओ और राक्षसियो तक के बलात्कार करने वाले रावण को आज भी कई लोग सम्मान की नजरो से देखते है. कोई कोई उसे ब्राह्मण कह के दशहरे के दिन उसके दहन का भी हलकी आवाज में विरोध करते है.

ठीक है लोकतंत्र है, इसमें सभी को अपनी बात कहने का हक़ है लेकिन क्या ऐसा करने हम/आप भारत की आत्मा श्रीराम पर ही तो सवालिया निशान नहीं उठा रहे है. ज्ञान होना अलग चीज है लेकिन लोक कल्याण में उसका उपयोग मायने रखा है, परकाण्ड पंडित कह कर उसके द्वारा किये गए कुकृत्यों पर पर्दा तो नहीं डाला जा सकता है.

शिव तांडव स्त्रोत्र समेत कई संस्कृत रचनाये रावण ने रची थी लेकिन इसका ये मतलब नहीं है की रावण शिव का भक्त था! जब रावण को अपनी शक्ति का घमंड हुआ तो उसने क्रोध में हिमालय को ही उठा लिया था वो भी उस समय जब शिव और पार्वती वंहा विराजमान थे. 

तब शिव ने रावण को अपने पेअर के अंगूठे से दबा दिया था, मरता क्या न करता तब रावण ने बुद्धि का प्रयोग कर रचा था "शिव तांडव स्त्रोत्र"...


image sources: news75

तब भी शिव ने उसे माफ़ नहीं किया था, लगातार 3000 वर्षो तक जब रावण ने इस मन्त्र से शिव स्तुति की तब जाकर शिव उसपे प्रसन्न हुए और वरदान भी दिए. अब बताइये इसमें कहा उसकी शिव भक्ति दिखती है बल्कि ये तो बुद्धि से समस्या से बचने की कला है वो भी अपने घमंड से पैदा हुई समस्या थी.

रावण युद्ध में अजेय होने के लिए लंका में कात्यायनी देवी की श्राद्धीय पूजा करता था (नवरात्र) जो उसे शक्ति प्रदान करता था लेकिन राम जी ने अमावस्या से ही शक्ति पूजा शुरू कर वरदान ले लिया था रावण वध का.


image sources: punjabkesari

ऐसे ही रावण ने ज्योतिष का ज्ञाता होने के चलते नवग्रहों को अपने वश में कर लिया था लेकिन शनि नहीं माना था, तब रावण ने उसे लंका में कैद में उलटा टांग दिया था जिन्हे हनुमान ने मुक्त करवाया था. 

सीधा सीधा मतलब ये है की त्रिलोकी को जितने और अपने वश में करने के लिए वो शिव हो या दुर्गा हो या नवग्रह हो या ब्रह्मा सभी की उपासना किया करता था. भक्ति तो व्यक्ति को दया सिखाती है, क्या आपने किसी भी भक्त को हिंसा करते हुए सुना है है कोई उदहारण?

रावण भक्ति नहीं बल्कि एक चतुर राक्षस था, ब्रम्हा के अण यानि की ब्राह्मण तो सभी है लेकिन कर्मो से ब्राह्मण हो वो ही ब्राह्मण है जन्म से धर्म या वर्ण का कोई लेना देना नहीं है. स्वाभाव ही व्यक्ति को मनुष्य या राक्षस बनाते है राक्षस भी तो मनुष्य ही थे बस गुणों का अंतर था.
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Know full story of hidimba's revenge of rakshasa. भीम ने किया था गन्धर्व विवाह, लेकिन राक्षस समझते थे उसे हिडिम्बा का बलात्कारी....

सुन कर भले ही आप चौंक गए हो लेकिन अगर आपने महाभारत पढ़ी है तो आप इस टाइटल से भिल्कुल भी आश्चर्य चकित नहीं होंगे, जाने वो वृतांत जो साबित करता है की ये बात है सही

Jackline fernandis top photos & controversy "कृपाण" को गलत तरीके से टांग कर धार्मिक विवादों में फंस गई थी जैकलीन, हो सकती थी गिरफ्तार...

पूर्व मिस श्रीलंका अब भारत में किक के बाद टॉप की नायिका हो गई है, हालाँकि अभी तक कोई एक्टिंग अवार्ड नहीं मिले है लेकिन वो अब एक नामचीन अभिनेत्री है पर जेक्लीन

Shraddha kapoor top wardrobe functions OMG श्रद्धा कपूर के साथ हो गया था ऐसा शर्मनाक हादसा, शर्म से हो गई पानी पानी..

श्रद्धा कपूर बॉलीवुड की हाल की एक्ट्रेसेस में से नंबर दो पर है (सफलता प्रतिशत में आलिया एक पर) वो शक्ति कपूर की बेटी और पद्मिनी कोल्हापुरी की भांजी है लेकिन उन

Know some thing about deity sage narada! श्रीमद भागवत : ब्राह्मणो के घर खाना बनाने वाली दलित महिला के बेटे थे नारद ऋषि

छुआछूत शास्त्रों में वर्णित नहीं है जो मनु स्मृति में लिखा है वो ही शास्त्रों में ही लिखा है, गलत मतलब समझने या समझें के चलते ये सब हुआ है और हो रहा है. जाने एक

full list of Worst double meaning songs from bollywood "वो जमाई रजाइ मे लगता रहा..." ऐसे डबल मीनिंग सांग की पूरी लिस्ट यंहा है...

वक्त के साथ साथ सिनेमा भी बदला है जंहा आजादी के बाद फिल्मो में लिपलॉक बेन थे तो अब तो हर फिल्म में दर्जन भर होते है, ऐसे ही बात करे अगर वल्गर गीतों की तो आज....

Pratik babbar personal life all about पिता राज बब्बर को माँ स्मिता पाटिल का कातिल समझ कर ड्रग्स के नशे में चूर रहते थे प्रतिक...

ज्यादा वक्त नहीं हुआ है जब राज बब्बर निजी जीवन में परेशानियों से घिरे हुए थे, उनकी दूसरी पत्नी स्मिता पाटिल प्रतिक को जन्म देते हुए क्या मरी उनकी जिंदगी में तो