Advertisement

आज भी जारी है स्वयंवर परम्परा, हिन्दुओ की हर शादी में निभाई जाती है कुछ ऐसे...

"कभी एक राजकुमारी अपने वर को चुनने के लिए वरमाला लिए चलती थी तो सबके दिल थम जाते थे, लेकिन अब क्यों नहीं होते स्वयंवर? आप गलत सोच रहे है आज भी जारी है ये रित...."
Advertisement
क्षत्रियो ही नहीं बल्कि सब वर्णो के लिए आदि काल में लेकिन विशेषरूप से राजाओ की बेटियों के होने वाले स्वयंवर ही चर्चा में रहते थे. आज भी देख ले किसी बड़े आदमी की बेटी की शादी को मीडिया कवरेज मिलती है लेकिन साधारण लोगो की शादी को कोई पब्लिसिटी नहीं मिलती है.

स्वयंवर के तहत या तो राजकुमारी अपने पसंद के राजकुमार को वर लेती थी या फिर राजकुमारी का स्वयंवर जितने के लिए कोई चुनौती रखी जाती थी. चुनौती इसलिए की क्षत्रियो के लिए सर झुका कर एक लड़की द्वारा माला पहनाने का इंतजार करना बेगैरत था.

चाहे अर्जुन द्वारा बिना देखे मछली की आंख का छेदन हो या राम जी द्वारा शिव धनुष की प्रत्यंचा सभी स्वयंवर किस शर्ते थी जो उन्होंने पूरी की. लेकिन अब न राजा रहे ने रजवाड़े इसलिए ये परम्परा अब उठ गई है लेकिन बाकि वर्णो में ये आज भी बदस्तूर जारी है.

आज भी हिंदुस्तान के हर घर में विवाह ऐसे ही होते है, क्या आपने नहीं देखे है तो जाने?


image sources: youtube

हालाँकि क्षत्रो की अपेक्षा अन्य वर्णो में स्वयंवर की शर्ते कुछ और ही थी, क्षत्रिय राजकुमार बिना माता पिता की आज्ञा के भी विवाह कर सकते थे ये उनके धर्म के अनुरूप है लेकिन अन्य वर्णो में माता पिता की आज्ञा अर्थात माता पिता ही तय करते थे शादी और बिना लड़का लड़की देखे होती थी शादी.

आप सोच रहे होंगे की ऐसे में फिर स्वयंवर कहा रहा और क्या मायने है ऐसी परम्परा के?


image sources: youtube

बाकि वर्णो में भले ही माता पिता ही बेटी या बेटे का रिश्ता तय करते थे लेकिन फिर भी बेटी या बेटे को सार्वजनिक मंच पर अपने पिता की पसंद को ही पसंद कर के रिश्ते की पुष्टि करनी पड़ती थी. मतलब अगर लड़की लड़के को ये रिश्ता पसंद नहीं तो वो इस मंच पर रिश्ते से मना भी कर सकते है.

हालाँकि ऐसा होता बहुत कम है लेकिन इसकी गुंजाईश छोड़ी गई है और इसीलिए इसे स्वयंवर कहा जाता है, आज भी भारत में हर साधारण या खास शादी में माला पहना कर ये परम्परा निभाई जाती है. है न मजेदार???
Advertisement

Share This Article:

facebook twitter google
Related Content
Nandikeshwar mahadev temple of nanderia village gujrat नंदिकेश्वर महादेव: द्रौपदी के ही जैसे भगवान् शंकर ने भी बचाई थी एक विधवा की आबरू..

भगवान् शंकर के 12 ज्योतिर्लिंगों के बारे में तो अपने सुन ही रखा है लेकिन इन सभी ज्योतिर्लिंगों के 12 उप लिंग भी है शिव पुराण में उनका वर्णन है. जाने उन्ही में..

Bollywood cute actress flop due to talnet सिर्फ सुन्दर होना ही काफी नहीं हिट होने के लिए, टैलेंट बिना सब सुन्न;;;

किसी बॉलीवुड से अनजान शक्श को इसमें एंट्री के लिए चेक जेक आदि आदि लगते है महिलाओ को कास्टिंग काउच जो की भी गॅरंटी नहीं काम की. ऐसे में सिर्फ सुन्दर होने वाली...

Bollywood top actress shocking by mistake oops इन एक्ट्रेस से अनचाहे ही हो गई ऐसी गलती होना पड़ा शर्मिंदा....

पुरुष प्रधान बॉलीवुड में मर्द तो टॉप लेस्स या शिरट्लेस्स घूम सकते है लेकिन महिलाये नहीं इसके ऊपर उनकी ड्रेस में से भी कुछ छलक जाए तो उनकी बेंड बजा देते है सभी.

Know secret of lost city of krishna श्री कृष्ण की बसाई हुई द्वारका नगरी का नष्ट होने से बचा जमीन का हिस्सा ही है बेत द्वारका

श्राप के कारण समूचा यदुवंश आपस में ही लड़ के मर गया, पर श्रीकृष्ण के रुक्मणी पुत्र प्रद्युम्य् का का पोता और अनिरुद्ध का बेटा जो की अंधकासुर की बेटी से पैदा हुआ

Bollywood & cricket funny picks मूड मस्त कर देने वाली कुछ सेलिब्रिटी पिक्स आप भी कहेंगे वाह भाई वाह...

तनाव के इस जीवन में अगर को घड़ी भर की भी हंसी दे दे तो वो ही आपका सच्चा दोस्त है ऐसे में हम भी अपना फर्ज निभाते हुए दिखा रहे है कुछ ऐसी ही तस्वीरें जो आपको मस्त

Know secret fight of kangana with prabhas बाहुबली ने की थी कुछ ऐसी हरकत के झगड़ पड़ी थी कंगना रनौत, अब गर्व कर रही है अपनी दुश्मनी पर...

तन्नू वेड्स मन्नू से कंगना को ऐ ग्रेड की एक्ट्रेस का दर्जा मिला तो प्रभास को बाहुबली बिगनिंग और कन्क्लूजन से, लेकिन क्या आपको पता है साथ काम करते हुए लड़ पड़े थे